Jaipur : कृष्णा कुंज वेलफेयर सोसाइटी, कालवाड़ रोड में चुनाव के दौरान एक बड़ा विवाद सामने आया है। कोर्ट के आदेश और अपार्टमेंट एक्ट ओनरशिप बाइलोज़ 2020 के नियमों का उल्लंघन करते हुए, कार्यवाहक कार्यकारिणी ने असंवैधानिक आमसभा का आयोजन किया, जिसका उद्देश्य सोसाइटी पर कब्जा करना बताया जा रहा है।

असंवैधानिक आमसभा और विरोध

चुनावी प्रक्रिया स्थगित होने के बावजूद, 23 जून 2024 को आयोजित इस आमसभा में दोनों पक्षों के बीच टकराव हुआ। एक पक्ष, जिसमें जगदीश चौधरी, राजीव कुमार, और रमाकांत जांगिड़ शामिल थे, पर गुंडागर्दी का आरोप लगाया गया। वहीं, दूसरे पक्ष, जिसमें IG (सेवानिवृत्त) महावीर सिंह, सतवीर सिंह, नारायण सिंह, अखिलेश माथुर, नरेंद्र सिंह तंवर, हरि सोनी, मनीष शर्मा, अशोक चोटिया, चेतराम टाडा, अशोक गोयल और अन्य कॉलोनीवासी शामिल थे, ने आमसभा का कड़ा विरोध किया और इसे बहिष्कृत कर दिया।

कोर्ट और प्रशासन की भूमिका

न्यायालय ने इस मामले में 6 जुलाई 2024 को सुनवाई की तारीख तय की है। सक्षम अधिकारी, उपायुक्त जोन -7, जविप्रा ने भी चुनावी प्रक्रिया स्थगित करने का आदेश दिया था, जिसे अनदेखा किया गया।

निवासियों की मांग और आगे की कार्रवाई

निवासियों ने प्रशासन और न्यायालय से तत्काल हस्तक्षेप की मांग की है और निष्पक्ष चुनाव कराने की अपील की है। उन्होंने रजिस्ट्रार और JDA की निष्क्रियता पर भी सवाल उठाए हैं। यह विवाद कृष्णा कुंज सोसाइटी के भविष्य को प्रभावित कर सकता है और सभी की निगाहें अब न्यायालय और प्रशासन पर हैं।

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor