सांवलियाजी मंदिरसांवलियाजी मंदिर

Sanwariya Seth Temple : राजस्थान के उदयपुर जिले में स्थित सांवलिया सेठ मंदिर में मासिक मेले के दौरान 4.70 करोड़ रुपये और 10 सोने के बिस्किट का चढ़ावा मिला. मंदिर के अधिकारियों ने कहा कि यह अब तक का सबसे बड़ा चढ़ावा है जो मंदिर को मिला है.

चढ़ावा सांवलिया सेठ मंदिर के दो दिवसीय मासिक मेले के दौरान प्राप्त किया गया था. मेला हर महीने अमावस्या के दिन आयोजित किया जाता है. मंदिर के अधिकारियों ने कहा कि इस बार मेले में लाखों भक्तों ने शिरकत की. भक्तों ने मंदिर में भगवान कृष्ण की पूजा-अर्चना की और चढ़ावा चढ़ाया.

चढ़ावा में मिले 10 सोने के बिस्किट 100-100 ग्राम के हैं. मंदिर के अधिकारियों ने कहा कि वे चढ़ावा को मंदिर के खर्चों के लिए इस्तेमाल करेंगे. उन्होंने कहा कि वे इस चढ़ावे को मंदिर के विकास के लिए भी इस्तेमाल करेंगे.

Sanwariaji Temple
Sanwariaji Temple

सांवलिया सेठ मंदिर राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है. यह मंदिर भगवान कृष्ण को समर्पित है. मंदिर राजस्थान के उदयपुर जिले के चित्तौड़गढ़ शहर से करीब 100 किलोमीटर दूर है. मंदिर में हर साल लाखों श्रद्धालु आते हैं.

मालवा-मेवाड़ का प्रसिद्ध कृष्ण धाम मण्डफिया स्थित श्री सांवलिया जी मंदिर में चतुर्दशी के अवसर पर भंडार खोला गया था. प्रथम दिवस की गणना में चार करोड़ से अधिक राशि निकली थी. लेकिन भक्तों की अपार भीड़ के कारण गणना का कार्य रोक दिया गया.

17 अगस्त 2023 को राशि की दूसरी गणना की गई. दोनों दिनों की राशि की गणना को मिलाकर 07 करोड़ 10 लाख रुपए की गणना हुई. शेष गणना कल की जाएगी.

मंदिर के महंत श्री नारायण दास वैष्णव ने बताया कि चतुर्दशी के अवसर पर मंदिर में लाखों श्रद्धालु आए थे. सभी ने मंदिर में भगवान सांवलिया जी की पूजा-अर्चना की और चढ़ावा चढ़ाया. उन्होंने कहा कि यह चढ़ावा मंदिर के लिए एक आशीर्वाद है.

सांवलियाजी मंदिर राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है. यह मंदिर भगवान कृष्ण को समर्पित है. मंदिर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले के मण्डफिया गांव में स्थित है. मंदिर में हर साल लाखों श्रद्धालु आते हैं.

सांवलिया सेठ मंदिर के चढ़ावे से मंदिर के अधिकारियों को खुशी हुई है. उन्होंने कहा कि यह चढ़ावा मंदिर के लिए एक आशीर्वाद है. उन्होंने कहा कि वे इस चढ़ावे को मंदिर के विकास के लिए इस्तेमाल करेंगे ताकि भक्तों को बेहतर सुविधाएं मिल सकें.

By manmohan singh

News editor and Journalist

Enable Notifications OK No thanks