20 फरवरी, 2024: ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ अपनी दूसरी वर्षगांठ मना रही है। इस फिल्म में अफसान की भूमिका निभाने वाले अभिनेता शांतनु माहेश्वरी ने अपने अनुभवों और इस यादगार यात्रा के बारे में खुलकर बात की।

शांतनु ने फिल्म में अपनी भूमिका से हजारों प्रशंसकों और आलोचकों का दिल जीत लिया। उन्हें “नीली आंखों वाला लड़का” के रूप में जाना जाने लगा और उन्हें उस वर्ष देखने लायक अभिनेताओं में सबसे ऊपर रखा गया।

शांतनु ने कहा: “ऐसा नहीं लगता कि ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ दो साल की हो गई है। ऐसा लगता है जैसे कुछ दिन पहले ही मैं संजय सर के साथ शूटिंग कर रहा था और उनसे सीख रहा था। हर कोई मुझे अफसान का किरदार निभाने के लिए याद करता है, और यह बहुत अच्छा है।”

निर्देशक संजय लीला भंसाली के साथ काम करने के बारे में उन्होंने कहा: “सेट पर संजय सर जैसे किसी व्यक्ति के साथ रहना और उन्हें अपनी जादू की छड़ी घुमाते हुए देखना बहुत संतुष्टिदायक अनुभव था। मैं हमेशा उन सभी कौशलों और तकनीकों को याद रखूंगा जो मुझे मास्टर के साथ सेट पर रहते हुए सीखने का मौका मिला।”

वर्क फ्रंट की बात करें तो शांतनु अब नीरज पांडे की फिल्म ‘औरों में कहां दम था’ और बंगाली फिल्म ‘चलचित्र’ में नजर आएंगे।

यहाँ कुछ अन्य मुख्य बातें हैं जो शांतनु ने साझा कीं:

  • उन्होंने बताया कि कैसे उन्हें फिल्म के लिए ऑडिशन के लिए बुलाया गया था और उन्होंने भूमिका कैसे हासिल की।
  • उन्होंने फिल्म की शूटिंग के दौरान अपने अनुभवों और संजय लीला भंसाली के साथ काम करने के बारे में बात की।
  • उन्होंने फिल्म के बाद अपनी जिंदगी में आए बदलावों के बारे में भी बात की।

यह निश्चित रूप से शांतनु माहेश्वरी के लिए एक यादगार यात्रा रही है और ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ हमेशा उनके करियर में एक विशेष स्थान रखेगी।

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks