इंडियन मॉडल एक्ट्रेस लवीना इसरानी को प्रतिष्ठित मिड डे इनफ्लुएंसर अवार्ड से सम्मानित किया गया है, जिसके लिए उन्हें अशोक प्रसाद ने नामांकित किया था। लवीना को अवार्ड उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए दिया गया है इसके बाद लवीना ने अशोक प्रसाद को धन्यवाद दिया है और साथ ही साथ उन्होंने लालबाग में जाकर गणपति बप्पा के दर्शन भी किया।

इसको लेकर लवीना ने कहा कि मेरे लिए यह अवार्ड पूरी तरह से अनएक्सपेक्टेड था। लेकिन अशोक प्रसाद की वजह से मुझे यह अवार्ड मिल सका। इसके लिए मैं उनकी आभारी हूं। जैसा कि कहते हैं – मैन गिव्स थे अवॉर्ड और गोद गिव्स थे रीवार्ड। यह उसी तरह से मेरे लिए है। उन्होंने कहा कि मुझे कई साल पहले 2018 में अवार्ड मिले थे। उसके बाद ब्यूटी पीजेंट के बाद या पहले अवार्ड है इसलिए मैं खुद को लकी मानती हूं।

लवीना आने वाले दिनों में कई प्रोजेक्ट्स पर काम करते नजर आने वाली है। यह खुद उन्होंने ही कहा है। उन्होंने बताया कि अभी वह कुछ भी रिवील नहीं कर सकती हैं लेकिन ईश्वर की कृपा होगी तो सभी बैक टू बैक फ्लोर पर होंगे। आपको बता दें कि लवीना इसरानी का जन्म मुंबई, महाराष्ट्र, भारत में हुआ था। वह दिल्ली के पंजाबी बॉयज़ (2022) , ये ख्वाब पतंग से (2020) और तेरे नाम का टैटू (2019) के लिए जानी जाती हैं।

By रंजन सिन्हा

रंजन सिन्हा : भोजपुरी फिल्म पत्रकार और जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) हैं, जिनके पास मनोरंजन उद्योग में व्यापक अनुभव है। उन्हें भोजपुरी फिल्म उद्योग की गहरी समझ है और वे अपनी अंतर्दृष्टिपूर्ण रिपोर्टिंग और भोजपुरी फिल्मों की निष्पक्ष समीक्षा के लिए जाने जाते हैं।रंजन सिन्हा ने एक प्रमुख समाचार पत्र के लिए एक रिपोर्टर के रूप में पत्रकारिता में अपना करियर शुरू किया और जल्द ही भोजपुरी फिल्म उद्योग को कवर करने के लिए चले गए। उसके बाद से उन्होंने खुद को क्षेत्र के सबसे भरोसेमंद और सम्मानित पत्रकारों में से एक के रूप में स्थापित किया है, उनके काम को प्रमुख मीडिया आउटलेट्स में नियमित रूप से प्रदर्शित किया जाता है।पीआरओ के रूप में, रंजन सिन्हा ने भोजपुरी फिल्म उद्योग में कुछ सबसे बड़े नामों के साथ काम किया है, जिससे उन्हें अपनी फिल्मों को बढ़ावा देने और व्यापक दर्शकों तक पहुंचने में मदद मिली है। मार्केटिंग और प्रमोशन पर उनकी पैनी नजर है और ये अपनी इनोवेटिव और इफेक्टिव स्ट्रैटेजी के लिए जाने जाते हैं।