The Diary of West Bengal's Director Sanoj Mishra summoned by Kolkata PoliceThe Diary of West Bengal's Director Sanoj Mishra summoned by Kolkata Police

The Diary Of West Bengal: बढ़ते विवाद के बीच, ‘द वेस्ट बंगाल डायरी’ के Director Sanoj Mishra (निर्देशक सनोज मिश्रा) ने कोलकाता पुलिस के सामने पेश होने की तैयारी करते हुए अपनी जान को लेकर वास्तविक भय व्यक्त किया है। Director Sanoj Mishra को एक शिकायत दर्ज करने के बाद सम्मन प्राप्त हुआ, जिसमें आरोप लगाया गया कि उनकी फिल्म का उद्देश्य पश्चिम बंगाल राज्य को बदनाम करना था।

इंडिया टुडे के साथ एक विशेष साक्षात्कार में, Director Sanoj Mishra (निर्देशक सनोज मिश्रा) ने अपनी आशंका साझा करते हुए कहा, “मैं एक आतंकवादी नहीं हूं। मैंने कुछ भी असंवैधानिक नहीं किया है। यह फिल्म एक सच्ची कहानी पर आधारित है।” फिल्म के ट्रेलर ने पश्चिम बंगाल के भीतर “सामूहिक हत्या, बलात्कार और हिंदू पलायन” की घटनाओं को उजागर करके भौहें उठाईं, यहां तक ​​कि यह सुझाव भी दिया कि बंगाल भारत का नया कश्मीर बन रहा था। मिश्रा को जारी सम्मन में कहा गया है कि उनसे “मामले के तथ्यों और परिस्थितियों का पता लगाने के लिए” पूछताछ की जाएगी।

Director Sanoj Mishra (निर्देशक सनोज मिश्रा) ने आगे अपना विश्वास व्यक्त किया कि उन्हें धमकाया जा रहा था और चुप करा दिया गया था, यह दावा करते हुए कि अगर वे बंगाल की यात्रा करते हैं तो उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। उसने जोर देकर कहा कि उसे फंसाया जा रहा है: “मुझे बंगाल बुलाए जाने के बाद मार दिया जा सकता है।”

Director Sanoj Mishra (निर्देशक सनोज मिश्रा) ने दावा किया कि उनके खिलाफ मुकदमा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार को दबाने का एक प्रयास था। उन्होंने कहा, “मैं राष्ट्र-विरोधी नहीं हूं। मैं समाज के लिए काम करने वाला व्यक्ति हूं।” पश्चिम बंगाल सरकार की आलोचना करते हुए, मिश्रा ने उनसे अपने मामलों से ध्यान हटाने के बजाय बेरोजगारी जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करने का आग्रह किया।

अपनी फिल्म का बचाव करते हुए, Director Sanoj Mishra (निर्देशक सनोज मिश्रा) ने जोर देकर कहा कि यह बंगाली राजनीति पर ध्यान केंद्रित करती है और वैधता बनाए रखती है। उन्होंने कहा कि पटकथा वास्तविक घटनाओं से प्रेरित है, जो कहानी को और अधिक वजन देती है।

जैसा कि निर्देशक कोलकाता पुलिस से लोहा लेने की तैयारी कर रहे हैं, फिल्म उद्योग और दर्शक समान रूप से The Diary Of West Bengal के आसपास की घटनाओं का इंतजार कर रहे हैं। मामला कलात्मक अभिव्यक्ति, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और संवेदनशील विषयों का पता लगाने का विकल्प चुनने वाले कलाकारों के सामने आने वाले संभावित खतरों के बारे में महत्वपूर्ण प्रश्न उठाता है।

अधिकारियों की प्रतिक्रिया और Director Sanoj Mishra (निर्देशक सनोज मिश्रा) की कलकत्ता पुलिस के सामने पेशी के परिणाम विवाद की गति को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करेंगे। इस बीच, कलात्मक स्वतंत्रता के पैरोकार और संवैधानिक अधिकारों की रक्षा के बारे में चिंतित लोग इस मामले के घटनाक्रम पर बारीकी से नजर रख रहे हैं।

कोलकाता पुलिस के साथ निदेशक की बैठक और चल रही बहस The Diary Of West Bengal पर इसके असर के बारे में और अपडेट के लिए बने रहें।

By संजय भूषण पटियाला

फ़िल्म पत्रकारिता और प्रमोशनल रिलेशन्स का क्षेत्र संजय भूषण पटियाला के लिए केवल एक करियर ही नहीं है, बल्कि यह एक पूरे जीवन का तरीका है जिसमें वह अपने दृढ विश्वासों और कर्मठता के साथ आगे बढ़ते हैं। वे केवल एक पत्रकार नहीं हैं, बल्कि एक सामाजिक सक्रिय व्यक्ति भी हैं जो समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का पूर्णता से निर्वाह करते हैं। संजय ने फ़िल्म उद्योग के साथियों की मदद करने और नौकरियों को प्रमोट करने के कई सामाजिक पहलुओं में भाग लिया है, जो उनके समर्पण और उनकी समाजसेवा के प्रति प्रतिबद्धता की प्रतिबिंबित करते हैं। उनका 10 वर्षों का अनुभव फ़िल्म उद्योग के विभिन्न पहलुओं की समझ और संवादनाओं की सामर्थ्य का प्रमाण है और यह उन्हें विभिन्न प्रमुख पत्रिकाओं, डिजिटल प्लेटफ़ॉर्मों और ब्लॉगों के लिए फ़िल्म समीक्षाएँ, समाचार लेख और विशेष रिपोर्ट्स लिखने में मदद करता है। उन्होंने अपने कैरियर के दौरान कई प्रमुख फ़िल्म प्रोजेक्ट्स के साथ काम किया है और उन्होंने उन्हें सफलता की ऊँचाइयों तक पहुँचाया है। उनकी अद्वितीय अनुभवशीलता फ़िल्म उद्योग के विभिन्न पहलुओं की समझ और संवादनाओं की सामर्थ्य का प्रमाण है। संजय भूषण पटियाला का यह पूरा उत्कृष्टता और प्रतिबद्धता से भरपूर सफर उनके प्रोफेशनल और सामाजिक पहलुओं के संयमित संगम की वजह से है, जो उन्हें एक सशक्त और सक्रिय फ़िल्म पत्रकार के रूप में उच्च पहुंचा दिया है

Enable Notifications OK No thanks