कामाख्या सिंदूर: कामरूप कामाख्या, एक ऐसा क्षेत्र है जो अपने आध्यात्मिक महत्व और प्राचीन परंपराओं के लिए जाना जाता है, जिसमें विवाहित महिलाओं द्वारा आशीर्वाद और उनकी इच्छाओं की पूर्ति के लिए छिपा हुआ खजाना है। देवी कामाख्या का सिंदूर, जिसे कामिया सिंदूर भी कहा जाता है, एक अद्वितीय और पूजनीय पदार्थ है जो केवल इस पवित्र क्षेत्र में पाया जा सकता है। इसके अधिग्रहण के लिए समर्पण और भक्ति की आवश्यकता होती है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इसमें अपार शक्ति होती है। प्राचीन रीति-रिवाजों के अनुसार इसकी प्राप्ति एक विशेष मंत्र के 108 बार जाप से सिद्ध होती है, जिसके प्रयोग से विवाहित स्त्रियां अपनी मनोकामना पूर्ति का आह्वान कर सकती हैं।

सदियों से, देवी कामाख्या के सिंदूर को इसका उपयोग करने वालों पर दिए गए दिव्य आशीर्वाद के प्रतीक के रूप में माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसमें वशीकरण, जादू टोना, घरेलू परेशानियों, व्यापार में बाधाओं के साथ-साथ विवाह, प्रेम और अन्य पुरुषवादी शक्तियों से संबंधित समस्याओं को दूर करने की क्षमता होती है। इस पवित्र सिंदूर का उपयोग आमतौर पर शुभ कार्यक्रमों के दौरान किया जाता है, जो परमात्मा की उपस्थिति का प्रतीक है और देवी मां के दिव्य आशीर्वाद का आह्वान करता है।

देवी कामाख्या का पवित्र सिंदूर: विवाहित महिलाओं के लिए एक दिव्य वरदान

इस पवित्र सिंदूर की शक्ति का उपयोग करने के लिए एक निर्धारित अनुष्ठान का पालन किया जाता है। सिंदूर को चांदी की डिब्बी में रखा जाता है और इसे माथे पर तिलक (एक पवित्र चिह्न) के रूप में लगाते समय एक विशेष मंत्र का जाप किया जाता है। मंत्र, “कामाख्याये वरदे देवी नीलपवर्त वासिनी! नमोस्तुते जगत की देवी, योनीमुद्रा माँ !!,” का 108 बार जाप किया जाता है। शुक्रवार से लगातार सात दिनों तक एक चुटकी सिंदूर लगाते हुए 11 या 7 बार मंत्र का जाप करने की सलाह दी जाती है। जाप के दौरान तिलक बनाने के लिए गंगाजल, केसर और चंदन के मिश्रण का उपयोग किया जाता है। यह शक्तिशाली मंत्र पुरुषों और महिलाओं दोनों द्वारा किया जा सकता है, और मंत्र के पाठ के साथ सिंदूर के आवेदन को सिंक्रनाइज़ करना महत्वपूर्ण है।

विवाहित महिलाओं को सलाह दी जाती है कि वे निर्धारित निर्देशों का पालन करते हुए किसी विशेष दिन इस अनुष्ठान को करें। सिंदूर लगाने के साथ 11 या 7 बार मंत्र का जाप करना, परमात्मा से जुड़ने और उनकी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए आशीर्वाद लेने के मार्ग के रूप में कार्य करता है। तिलक, पवित्र सिंदूर के सार से ओतप्रोत, उनके माथे पर दिव्य उपस्थिति का प्रतीक है।

पीढ़ियों से चली आ रही देवी कामाख्या के सिंदूर का अत्यधिक आध्यात्मिक महत्व है। ऐसा माना जाता है कि इसमें जीवन को बदलने, समृद्धि लाने, सुरक्षा और इच्छाओं की पूर्ति करने की शक्ति है। देवी माँ के दिव्य आशीर्वाद में अटूट विश्वास और इस पवित्र सिंदूर का अनुष्ठान सदियों से चली आ रही प्राचीन परंपराओं और रीति-रिवाजों को जीवित रखते हुए कामरूप कामाख्या क्षेत्र में विवाहित महिलाओं के जीवन का एक अभिन्न अंग बना हुआ है।

इस सिंदूर को चांदी की डिब्बी में रखकर मंत्र ‘कामाख्याये वरदे देवी नीलपावर्ता वासिनी! त्व देवी जगत माता योनिमुद्रे नमोस्तुते!! ’का उच्चारण 108 बार करना चाहिए. इसका जाप चुटकी में सिंदूर लेकर 11 या 7 बार शुक्रवार को शुरू कर सात दिनों तक करना चाहिए. मंत्र के उच्चारण के समय हथेली में गंगाजल, केसर, चंदन को मिलाकर माथे पर तिलक लगाना चाहिए. इस जाप को स्त्री या पुरुष किसी के द्वारा भी किया जा सकता है. इसे लगाने का कार्य भी मंत्रोच्चारण के साथ किया जाना चाहिए.

वह मंत्र हैः- कामाख्याम कामसम्पन्ना कामेश्वरी हरप्रिया द्यकमाना देहि में नित्य कामेश्वरी नमोस्तुते द्यद्य

इस दिन करें कमिया सिंदूर का प्रयोग

इसका जाप चुटकी में सिंदूर लेकर 11 या 7 बार शुक्रवार को शुरू कर सात दिनों तक करना चाहिए। मंत्र के उच्चारण के समय हथेली में गंगाजल, केसर, चंदन को मिलाकर माथे पर तिलक लगाना चाहिए।

कामाख्या सिन्दूर का प्रयोग कैसे करे (How To Use Kamakhya Sindoor)

कामाख्या सिन्दूर के लाभ प्राप्त करने के लिए विधि-विधान से इसका उपयोग करना चाहिए। कामाख्या सिन्दूर के साथ हम एक विधि प्रदान करते है जिसके अनुसार आपको सिन्दूर का प्रयोग करना होता है। 

कामाख्या सिन्दूर की सावधानियां (Precautions for Kamakhya Sindoor)

कामाख्या सिन्दूर का प्रयोग करते समय अनेक बातों और नियमों का ध्यान रखना होता है। हम कामाख्या सिन्दूर के साथ विधि सहित सावधानियां व नियम आदि प्रदान करते है।  

कामाख्या मंत्र (Kamakhya Mantra in Hindi) 

।। ॐ नमः कामाक्षी देवी सिद्ध कुरु कुरु स्वः ।।

कामाख्या सिन्दूर कैसे प्राप्त करे (How Will You Get Kamakhya Sindoor)

कामाख्या सिन्दूर प्राप्त करने के लिए या किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमसे दिए गए नंबर +91-9773506528 पर संपर्क कर सकते है।

नोट: आध्यात्मिक अभ्यासों को व्यक्तिगत विवेक और व्यक्तिगत विश्वासों के प्रति सम्मान के साथ करना महत्वपूर्ण है।

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks