अंगूरी भाभी शुभांगी अत्रे ने पहला टैटू को बनवायाअंगूरी भाभी शुभांगी अत्रे ने पहला टैटू को बनवाया

शुभांगी अत्रे ने अपना पहला टैटू बनवाया है और इसका विषय एक पावन प्रतीक है। टैटू कला आमतौर पर सिर्फ डिजाइन के लिए जानी जाती है, लेकिन शुभांगी ने एक आध्यात्मिक मायने रखने वाले प्रतीक को चुना है। शुभांगी अत्रे एण्डटीवी के लोकप्रिय शो ‘भाभीजी घर पर हैं’ में अंगूरी भाभी की भूमिका में प्रसिद्ध हैं। इससे पहले कई सालों तक विचार करने के बाद, शुभांगी ने अंततः अपने टैटू को बनवाया है और उसमें एक महत्वपूर्ण आध्यात्मिक संकेत भी है।

शुभांगी ने बताया, “टैटू आपकी अभिव्यक्ति के शक्तिशाली माध्यम होते हैं। मैंने लगभग बीस सालों से अपने पहले टैटू के बारे में सोचा था। त्वचा पर स्थायी कलाकारी करवाने की इच्छा मुझे मेरी पहचान के साथ जुड़े एक अलग अंदाज़ की लालसा से उत्पन्न हुई। टैटू का महत्व मेरे लिए बहुत अधिक था, क्योंकि यह मेरे साथ जीवन भर रहेगा। अंततः वह दिन आया और मैंने खुद पर एक सुंदर टैटू बनवाया, जिसमें ओम का प्रतीक और एक कमल है। यह दोनों मेरे लिए गहरे मायने रखते हैं।

ओम से भगवान शिव के लिए मेरी भक्ति जताई जाती है, जबकि कमल से सेहत की प्रतीक्षा की जाती है। इन प्रतीकों में योग का सार भी है, जोने मेरी मानसिक और शारीरिक सेहत को पोषण दिया है। अब मैं अपने टैटू के लिए बहुत खुश हूँ, क्योंकि इससे मेरा आत्मसम्मान बढ़ा है और जीवन के प्रति मेरा उत्साह नयापन प्राप्त कर रहा है।”

अंगूरी भाभी शुभांगी अत्रे ने पहला टैटू को बनवाया

शुभांगी की दीर्घकालिक इच्छा को अंततः पूरा होने का श्रेय उनकी बेटी आशी को जाता है। उन्होंने कहा, “जब आशी ने अमेरिका में ऊच्च शिक्षा के लिए जाने की तैयारी की, तब मैं उसके जाने से पहले उसके साथ अच्छा समय बिताना चाहती थी। हमने गोवा में एक यादगार यात्रा की योजना बनाई, जहां आशी ने मुझे अपनी इच्छा को मना लिया, जो मैं हमेशा से चाहती थी। इस कार्य में कई प्रयास किए गए; मुझे शुरु

आत में हिचकिचाहट हुई और मैंने तीन बार स्टूडियो छोड़ दिया, लेकिन आशी ने मेरे साथ सहयोग किया और मेरी पसंद को आसानी से समझ गई, जब मुझे टैटू कलाकार को अपनी कल्पना समझाने में कठिनाई हो रही थी।”

वह आगे कहती है, “मेरे मन में उस समय रोमांच, डर और आशंका के मिश्रित भाव थे। मैंने वह संभावित दर्द सोचा, जो मुझे होना था, क्योंकि मैं कुर्सी पर बैठी थी और मेरी कलाई आर्टिस्ट के सामने थी। मेरे त्वचा के लिए सुई तैयार होते समय पूर्वाभास बढ़ता जा रहा था। आर्टिस्ट ने कुशलता से ओम का प्रतीक बनाकर शुरुआत की, जो सर्वोच्च चेतना, पुरुष, ब्राह्मण या अंतरिक्ष का प्रतीक है। इसके बाद, संकोच को दूर करते हुए कमल का फूल सावधानी से बनाया गया, जो शुद्धता, ज्ञान की प्रकाशमयी प्रतीक्षा है और नए आरंभ का प्रतीक है, जो कठिन संघर्षों को महत्वपूर्ण जीवन सबकों में बदल देता है।”

शुभांगी आगे कहती है, “हालांकि टैटू बनवाने में सिर्फ लगभग बीस मिनट लगे, लेकिन मुझे स्थायित्व की अनुभूति हुई। भावनाओं को शब्दों में नहीं समझाया जा सकता। मुझे प्राणशक्ति, स्वतंत्रता और सफलता की तीव्र अनुभूति हुई। यह टैटू अब मेरी जान बन गया है और मैं इसे गर्व से दूसरों को दिखाती हूँ। मैं अपने अगले टैटू की कल्पना भी करने लगी हूँ, जो मेरी प्यारी बेटी के सम्मान में होगा, क्योंकि वह मेरी सबसे बड़ी ताकत है। डिजाइन के लिए मैं फिर से उसी पर भरोसा करूंगी, क्योंकि वह मेरी भावनाओं को गहराई से समझती है।”

शुभांगी अत्रे को एण्डटीवी के ‘भाभीजी घर पर हैं’ में अंगूरी भाभी की भूमिका में हर सोमवार से शुक्रवार रात 10:30 बजे देखा जा सकता है।

By manmohan singh

News editor and Journalist

Enable Notifications OK No thanks