विश्व धर्म संसद 2023 का उद्घाटन समारोह अमेरिका के शिकागो शहर में 14 अगस्त को हुआ. इस समारोह में 80 देशों के 10,000 से अधिक विभिन्न धर्मों और संप्रदायों के प्रतिनिधि शामिल हुए. समारोह को युवाचार्य श्री अभयदास जी महाराज श्री ने संबोधित किया.


युवाचार्य श्री अभयदास जी महाराज श्री ने अपने संबोधन में कहा कि विश्व धर्म संसद एक महत्वपूर्ण मंच है जहां विभिन्न धर्मों के लोग एक साथ आकर शांति, सद्भाव और समृद्धि के लिए काम कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि धर्मों को लोगों को एकजुट करने के लिए और नफरत और हिंसा को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

युवाचार्य श्री अभयदास जी महाराज श्री के संबोधन के बाद, जैन आचार्य लोकेश मुनि जी, दत्त पद्मनाभ पीठाधीश्वर ब्रह्मेशानंद जी, पूज्या ब्राह्मी देवी जी, और पूज्य राज राजेश्वर जी ने भी संबोधित किया. सभी वक्ताओं ने शांति, सद्भाव और समृद्धि के लिए काम करने का आह्वान किया.


विश्व धर्म संसद 14 से 18 अगस्त तक चलेगी. इस दौरान विभिन्न धर्मों के लोग एक साथ बैठकर अपने धर्मों की शिक्षाओं और मूल्यों को साझा करेंगे. वे शांति, सद्भाव और समृद्धि के लिए भी काम करेंगे.

विश्व धर्म संसद 2023 का आयोजन एक महत्वपूर्ण घटना है. यह एक ऐसा मंच है जहां विभिन्न धर्मों के लोग एक साथ आकर शांति, सद्भाव और समृद्धि के लिए काम कर सकते हैं. यह एक ऐसा अवसर है जहां विभिन्न धर्मों के लोग एक-दूसरे को समझ सकते हैं और एक-दूसरे के धर्मों के बारे में जान सकते हैं. यह एक ऐसा अवसर है जहां विभिन्न धर्मों के लोग एक साथ मिलकर काम कर सकते हैं और दुनिया को एक बेहतर जगह बना सकते हैं.

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks