The Diary of West Bengal's Director Sanoj Mishra summoned by Kolkata PoliceThe Diary of West Bengal's Director Sanoj Mishra summoned by Kolkata Police

The Diary of West Bengal’s Director Sanoj Mishra summoned by Kolkata Police: एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, हिंदी फिल्म ‘The Diary of West Bengal’ के निर्देशक को पश्चिम बंगाल पुलिस से कानूनी नोटिस मिला है। यह नोटिस निर्देशक के खिलाफ उठाए गए राज्य मानहानि के आरोपों के बीच आया है, जिसने फिल्म के आसपास चल रहे विवाद को हवा दी।

सूत्रों के मुताबिक, पश्चिम बंगाल पुलिस ने ‘The Diary of West Bengal‘ के डायरेक्टर सनोज मिश्रा पर फिल्म के जरिए राज्य को बदनाम करने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए नोटिस जारी किया है। इस स्तर पर आरोपों के लिए विशिष्ट आधारों का खुलासा नहीं किया गया है।

The Diary of West Bengal: PC करने जा रहे थे ‘बंगाल डायरी’ के डायरेक्टर, तभी पहुंच गई पुलिस; डर के मारे कॉनफ्रेंस हॉल से भागे
The Diary of West Bengal: फिल्म को लेकर आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी गई थी, लेकिन वहां अचानक सिविल ड्रेस में पुलिस कर्मी पहुंच गए. जिसके बाद निर्देशक सनोज मिश्रा गिरफ्तारी के डर से लगभग घण्टा भर तक प्रेसवार्ता हॉल में ही नहीं आए.
The Diary of West Bengal: PC करने जा रहे थे ‘बंगाल डायरी’ के डायरेक्टर, तभी पहुंच गई पुलिस; डर के मारे कॉनफ्रेंस हॉल से भागे The Diary of West Bengal: फिल्म को लेकर आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी गई थी, लेकिन वहां अचानक सिविल ड्रेस में पुलिस कर्मी पहुंच गए. जिसके बाद निर्देशक सनोज मिश्रा गिरफ्तारी के डर से लगभग घण्टा भर तक प्रेसवार्ता हॉल में ही नहीं आए.

The Diary of West Bengal: फिल्म ‘द डायरी ऑफ वेस्ट बंगाल’ का ट्रेलर जारी होते ही बवाल मच गया है. जहां एक तरह पश्चिम बंगाल पुलिस ने फिल्म के निर्देशक को लीगल नोटिस थमा दिया है. वहीं दूसरी तरफ इस फिल्म को लेकर आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी गई थी, लेकिन उस प्रेस कॉन्फ्रेंस के होने से पहले ही जबरदस्त ड्रामा हो गया. दरअसल जिस हॉल में यह प्रेसवार्ता होनी थी. वहां अचानक सिविल ड्रेस में पुलिस कर्मी पहुंच गए. जब इस बात की सूचना फिल्म के निर्देशक सनोज मिश्रा को लगी तो वो गिरफ्तारी के डर से लगभग घण्टा भर तक प्रेसवार्ता हॉल में ही नहीं आए.

The Diary Of West Bengal का ट्रेलर आया और ममता की पुलिस ने डायरेक्टर को नोटिस भेज दिया, Sanoj Mishra बोले- शायद नहीं बचूंगा
The Diary Of West Bengal का ट्रेलर आया और ममता की पुलिस ने डायरेक्टर को नोटिस भेज दिया, Sanoj Mishra बोले- शायद नहीं बचूंगा

उन्हें डर था कि अगर वो वहां पहुंचे तो मुम्बई पुलिस उन्हें अरेस्ट कर लेगी, लेकिन बाद में डीसीपी और ओशिवारा पुलिस ने निर्देशक को फोन पर बताया कि पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए नहीं बल्कि प्रोटेक्शन के लिए आई थी. जिसके बाद निर्देशक PC के लिए हॉल में पहुंचे है.

ANI के ट्वीट के हवाले से यह पता लगा है कि पश्चिम बंगाल पुलिस ने ‘The Diary of West Bengal’ के निर्देशक को नोटिज जारी किया है। ANI के ट्वीट के मुताबिक, ‘पश्चिम बंगाल पुलिस ने हिंदी फिल्म The Diary of West Bengal के निर्देशक सनोज मिश्रा को नोटिस जारी कर आरोप लगाया है कि निर्देशक इस फिल्म से बंगाल को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं।’

भारतीय दंड संहिता (IPC), सूचना प्रौद्योगिकी (IT) अधिनियम और सिनेमैटोग्राफी अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत दिया गया कानूनी नोटिस, उस गंभीरता को उजागर करता है जिसके साथ अधिकारी इस मामले में संपर्क कर रहे हैं। इसके लिए निदेशक को एक निर्दिष्ट तिथि पर एमहर्स्ट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन में पूछताछ के लिए उपस्थित होना आवश्यक है।

30 मई को पूछताछ के लिए जाना होगा कोलकत्ता

बता दें कि पश्चिम बंगाल पुलिस ने फिल्म के निर्देशक सनोज मिश्रा को लीगल नोटिस दिया है. उसके मुताबिक उन्हें 30 मई को बंगाल पुलिस के सामने पूछताछ के लिए हाजिर होना होगा. पुलिस द्वारा जारी किए गए नोटिस में पुलिस ने सेक्शन 120 B साजिश रचने , 153A दो समुदाय विशेष में वैमनस्य पैदा करने की कोशिश सहित धारा 501 ,504 ,505 ,295A IPC सहित 66D/84B इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट 2000 और सेक्शन 7 सिनेमेटोग्राफर एक्ट 1952 के तहत केस दर्ज किया गया है, इसलिए पूछताछ के लिए निर्देषक को पेश होने को कहा गया है.

वसीम रिजवी फिल्म्स द्वारा निर्मित और सनोज मिश्रा द्वारा निर्देशित ‘The Diary of West Bengal’ सच्ची घटनाओं पर आधारित है। फिल्म की कहानी और पश्चिम बंगाल राज्य से इसके संबंध ने ध्यान आकर्षित किया है और कानूनी नोटिस से पहले बहस छिड़ गई है। फिल्म के आसपास के विवाद ने कलात्मक अभिव्यक्ति की सीमाओं और राज्य के फिल्म उद्योग पर इसके प्रभाव के बारे में चिंताएं बढ़ा दी हैं।

जैसे-जैसे कानूनी कार्यवाही सामने आती है, उद्योग पर्यवेक्षक और जनता इस मामले में आगे की घटनाओं का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। कानूनी नोटिस पर निर्देशक की प्रतिक्रिया और उसके बाद पश्चिम बंगाल पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई ‘द डायरी ऑफ वेस्ट बंगाल’ के भविष्य को महत्वपूर्ण रूप से आकार देगी।

ऐसी होगी कहानी

वसीम रिजवी फिल्म्स के बैनर तले बन रही इस फिल्म को नारायण सिंह निर्मित किया गया है। ‘The Diary of West Bengal’ मशहूर निर्देशक सनोज मिश्रा द्वारा लिखित और निर्देशित है। फिल्म सच्ची घटनाओं पर आधारित है। फिल्म के प्रचारक संजय भूषण पटियाला है।

By संजय भूषण पटियाला

फ़िल्म पत्रकारिता और प्रमोशनल रिलेशन्स का क्षेत्र संजय भूषण पटियाला के लिए केवल एक करियर ही नहीं है, बल्कि यह एक पूरे जीवन का तरीका है जिसमें वह अपने दृढ विश्वासों और कर्मठता के साथ आगे बढ़ते हैं। वे केवल एक पत्रकार नहीं हैं, बल्कि एक सामाजिक सक्रिय व्यक्ति भी हैं जो समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का पूर्णता से निर्वाह करते हैं। संजय ने फ़िल्म उद्योग के साथियों की मदद करने और नौकरियों को प्रमोट करने के कई सामाजिक पहलुओं में भाग लिया है, जो उनके समर्पण और उनकी समाजसेवा के प्रति प्रतिबद्धता की प्रतिबिंबित करते हैं। उनका 10 वर्षों का अनुभव फ़िल्म उद्योग के विभिन्न पहलुओं की समझ और संवादनाओं की सामर्थ्य का प्रमाण है और यह उन्हें विभिन्न प्रमुख पत्रिकाओं, डिजिटल प्लेटफ़ॉर्मों और ब्लॉगों के लिए फ़िल्म समीक्षाएँ, समाचार लेख और विशेष रिपोर्ट्स लिखने में मदद करता है। उन्होंने अपने कैरियर के दौरान कई प्रमुख फ़िल्म प्रोजेक्ट्स के साथ काम किया है और उन्होंने उन्हें सफलता की ऊँचाइयों तक पहुँचाया है। उनकी अद्वितीय अनुभवशीलता फ़िल्म उद्योग के विभिन्न पहलुओं की समझ और संवादनाओं की सामर्थ्य का प्रमाण है। संजय भूषण पटियाला का यह पूरा उत्कृष्टता और प्रतिबद्धता से भरपूर सफर उनके प्रोफेशनल और सामाजिक पहलुओं के संयमित संगम की वजह से है, जो उन्हें एक सशक्त और सक्रिय फ़िल्म पत्रकार के रूप में उच्च पहुंचा दिया है

Enable Notifications OK No thanks