REET Exam Paper Leak: राजस्थान में आज पेपर लीक मामले को लेकर कई शहरों में ईडी ने आज छापेमारी की. इस रेड को लेकर सीएम गहलोत ने बयान दिया है.

CM Ashok Gehlot on ED Raid in Rajasthan: राजस्थान रीट पेपर लीक मामले में आज ईडी ने राजधानी जयपुर समेत कई शहरों में आज ताबड़तोड़ कार्रवाई को अंजाम दिया. वहीं ईडी की इस छापेमारी को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा है कि जब सीबीआई अपना काम कर रही है तो फिर केंद्रीय एजेंसियां इसमें क्यों दखल दे रही हैं.

हाल ही में एक बयान में, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा की जा रही छापेमारी के बारे में अपनी चिंता व्यक्त की। गहलोत ने दावा किया कि ईडी, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और आयकर विभाग जैसी अन्य एजेंसियों के साथ, अनावश्यक रूप से राजस्थान में प्रवेश करने के लिए तड़प रही है।

मुख्यमंत्री ने राजस्थान के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की उपलब्धियों पर जोर देते हुए कहा कि इसने लगातार सराहनीय कार्य किया है, जिससे यह देश का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाला ब्यूरो बन गया है। गहलोत ने ईडी के हस्तक्षेप की आवश्यकता पर सवाल उठाते हुए दावा किया कि वे अनावश्यक रूप से राज्य के मामलों में हस्तक्षेप कर रहे हैं।

इसके अलावा, गहलोत ने इस बात पर प्रकाश डाला कि ईडी का क्रेडिट स्कोर देश में सबसे अधिक है। उन्होंने एजेंसी से आग्रह किया कि वह राजस्थान के मामलों में बिना किसी हस्तक्षेप के अपनी प्रक्रियाओं को स्वतंत्र रूप से संचालित करे। गहलोत ने उम्मीद जताई कि ईडी बाहरी दबावों के आगे झुकने के बजाय कानून के मुताबिक काम करेगी।

मुख्यमंत्री ने छापे के पीछे संभावित राजनीतिक मंशा के मुद्दे को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव जीतने के लिए बदला लेना गलत है। गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार ईडी से निष्पक्ष रूप से मामले को संभालने और किसी बाहरी दबाव को अपने कार्यों को प्रभावित करने की अनुमति नहीं देने की उम्मीद करती है।

गहलोत ने चल रही जांच के व्यक्तिगत प्रभाव की ओर ध्यान आकर्षित किया, जिसमें कहा गया कि उनके विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) लोकेश शर्मा को हर दिन अदालत में पेश होना पड़ता है। उन्होंने बिना वैध औचित्य के अपने कर्मचारियों पर अनावश्यक बोझ डाले जाने पर चिंता व्यक्त की।

मुख्यमंत्री ने कर्नाटक में हाल की एक घटना का भी जिक्र किया, जहां चुनाव से पहले इसी तरह का छापा पड़ा था। गहलोत ने आरोप लगाया कि वह राजस्थान में भी इस तरह की कार्रवाई की आशंका जता रहे थे। उन्होंने ईडी द्वारा एसीबी को अपना सहयोग बढ़ाने की आवश्यकता पर जोर दिया, क्या उन्हें अपनी जांच के दौरान कोई आपत्तिजनक सबूत मिलते हैं। गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार ऐसे मामलों में ईडी के सहयोग की सराहना करेगी।

जैसा कि राजस्थान में ईडी की छापेमारी जारी है, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को उम्मीद है कि एजेंसी निष्पक्ष रूप से अपने कर्तव्यों का पालन करेगी और कानून के शासन को बनाए रखेगी। गहलोत का बयान निष्पक्ष और निष्पक्ष कार्यवाही के लिए सरकार की अपेक्षा की याद दिलाता है, ईडी से हस्तक्षेप से बचने का आग्रह करता है जिसे राजनीति से प्रेरित माना जा सकता है।

बता दें कि पेपर लीक मामले को लेकर आज ईडी ने जयपुर, बाड़मेर, डूंगरपुर, सांचोर सहित कई ठिकानों पर ईडी ने छापेमारी की. करोड़ों रुपये के अघोषित लेनदेन की आशंका के चलते ईडी ने ये रेड की है. बताया गया कि इस मामले में राजनीतिक और व्यवसाय से जुड़े लोग निशाने पर हैं. पेपर लीक मामले में केंद्रीय एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने ठेकेदार भजनलाल विश्नोई के घर पहुंच कर दस्तावेजों की जांच की.

सीएम ने कहा था कोई बख्शा नहीं जाएगा
इससे पहले सीएम अशोक गहलोत ने शनिवार को सांचौर में सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि पेपर लीक मामले में आपके यहां के भी तीन चार लोग शामिल थे, किसी को बख्शा नहीं जाएगा. वहीं आज ईडी ने बाड़मेर डूंगरपुर सहित तीन से चार अन्य जिलों में एक साथ अलग-अलग जगह छापेमारी की कार्रवाई की है. 

RPSC के मेंबर कटारा के घर भी की कार्रवाई
ईडी ने बाड़मेर मे रीट पेपर लीक मामले में गिरफ्तार ठेकेदार भजनलाल बिश्नोई के घर पर ED ने छापेमारी की कार्रवाई की है. ईडी की टीम घर व अन्य ठिकानों पर रखे दस्तावेज व अन्य कागजात को जप्त कर जांच बारीकी से की. वहीं, आरपीएससी मेंबर बाबूलाल कटारा के डूंगरपुर स्थित निवास पर छापेमारी की कार्रवाई चल रही है.

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks