Pratap Singh KhachariawasPratap Singh Khachariawas

राजस्थान में नवगठित जिलों को लेकर रार थमने का नाम नहीं ले रही है. एक तरफ कई कस्बों को जिला बनाने की मांग को लेकर आंदोलन जारी है. वहीं दूसरी तरफ गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास (Pratap Singh Khachariawas) ने ऐलान किया है कि जयपुर को किसी भी सूरत में दो जिलों में नहीं बांटा जाएगा.

अशोक गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने दावा किया है कि गुलाबी नगरी जयपुर को दो जिलों में नहीं बांटा जाएगा। खाचरियावास के अनुसार जयपुर शहर को उत्तर और दक्षिण जिलों में नहीं बांटा जाएगा। खाचरियावास ने कहा कि हमारा जयपुर शहर पहले की तरह शहर रहेगा। जयपुर हमारी राजधानी रहेगा। जयपुर एक विश्व विरासत शहर है। इसे गोविन्द देव जी का धाम कहा जाता है। पिछले 300 सालों से इस शहर का मूल स्वरूप जस का तस बना हुआ है। इसीलिए यूनेस्को द्वारा जयपुर को वर्ल्ड हेरिटेज सिटी का खिताब भी दिया गया था।

कुछ दिन पहले ही सीएम अशोक गहलोत ने राजस्थान में 19 जिलों के गठन की घोषणा की थी. इसमें राजधानी जयपुर को तोड़कर जयपुर को उत्तर व जयपुर दक्षिण को जिला बनाने की घोषणा की गई। सीएम की इस घोषणा के साथ ही राजस्थान में जिलों की संख्या 33 से बढ़ाकर 50 कर दी गई। लेकिन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने शुक्रवार को स्पष्ट घोषणा कर दी कि जयपुर शहर को जयपुर उत्तर और दक्षिण में विभाजित नहीं किया जाएगा। खाचरियावास के अनुसार जरूरत पड़ने पर जयपुर के प्रशासनिक ढांचे में बदलाव किया जा सकता है। अधिक पुलिस कर्मियों की तैनाती की जा सकती है। अधिक कलेक्टर लगाए जा सकते हैं। लेकिन जयपुर शहर एक ही शहर रहेगा।

राजस्थान सरकार में कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने शनिवार को बड़ा ऐलान किया है. उन्होंने जयपुर के विभाजन और दो जिलों के गठन की मुख्यमंत्री की घोषणा का खंडन किया। प्रेस कांफ्रेंस में मंत्री ने दावा किया कि जयपुर पहले की तरह अविभाजित रहेगा. उन्होंने यह भी कहा कि इसीलिए जयपुर जिले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा किसी विशेष अधिकारी की नियुक्ति नहीं की गई है। अब जयपुर नगर निगम हेरिटेज व जयपुर नगर निगम ग्रेटर दोनों जयपुर में ही रहेंगे।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 19 नए जिलों का ऐलान किया था

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस वर्ष अपने बजट भाषण में 19 नए जिलों की घोषणा की थी। इनमें जयपुर उत्तर और जयपुर दक्षिण भी शामिल थे। जयपुर को दो हिस्सों में बांटना था। इस घोषणा के बाद ही सरकार के कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने अपना विरोध प्रकट करना शुरू कर दिया. अब चुनावी साल में जब जनता का समर्थन भी देखने को मिला तो गहलोत के इस ऐलान के खिलाफ मंत्री ने जमकर मोर्चा खोल दिया.

बता दें कि सीएम ने जयपुर के साथ-साथ अनूपगढ़, बालोतरा, ब्यावर, डीग, डीडवाना-कुचामन, दूदू, गंगापुर सिटी, जोधपुर पूर्व, जोधपुर पश्चिम, केकड़ी, कोटपूतली-बहरोड़, खैरथल, नीम का थाना, फलौदी, सलूम्बर, सांचौर और शाहपुरा। जिला बनाने की घोषणा की थी। इसके साथ ही बांसवाड़ा, पाली व सीकर संभाग बनाने की घोषणा की।

सीएम जयपुर का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाना चाहते हैं

राजधानी जयपुर में कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि भविष्य में जयपुर जयपुर ही रहेगा। यह उत्तर और दक्षिण में नहीं बंटेगा। वह कहते हैं कि जयपुर की अपनी पहचान है, अपनी संस्कृति है। अगर जयपुर को उत्तर और दक्षिण में बांटा जाए तो यह अजीब लगेगा। जयपुर को अखंड रखने की मुहिम की शुरुआत करने वाले मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री भी नहीं चाहते कि जयपुर का बंटवारा हो. उनकी सोच बस यही है कि जयपुर को सबसे ज्यादा फायदा कैसे पहुंचाया जाए?

मंत्रियों और विधायकों की भी राय नहीं ली गई

खाचरियावास ने कहा कि हम इसे पिंक सिटी के नाम से पहले से जानते हैं। नगर निगम हेरिटेज व ग्रेटर ऑफ जयपुर के सभी 250 वार्डों को हमारे अविभाजित जयपुर शहर में शामिल किया जाएगा। इस दौरान प्रताप सिंह खाचरियावास ने भी स्वीकार किया कि अधिकारियों ने बिना जनता की राय जाने यह फैसला लिया है. इसमें मंत्रियों और विधायकों की भी राय नहीं ली गई.

नए जिलों की घोषणा के बाद से जयपुर को दो भागों में बांटने का विरोध

जयपुर को उत्तर और दक्षिण में विभाजित करने का विरोध मार्च में विधानसभा में नए जिलों की घोषणा के बाद से ही हो रहा है। जयपुर के संगठन साझा मंच बनाकर इसका विरोध कर रहे हैं। इस मुद्दे को लेकर कई बार प्रदर्शन हो चुके हैं।

सरकार ने सिर्फ 15 नए जिलों में लगाया ओएसडी, विरोध के चलते जयपुर-जोधपुर छोड़ा

जयपुर और जोधपुर को दो जिलों में बांटे जाने के विरोध को देखते हुए सरकार ने इनमें ओएसडी अभी तक नहीं लगाए हैं। हाल ही में 19 में से 15 जिलों में ही ओएसडी लगाये गये थे. कयास लगाए जा रहे हैं कि सरकार जयपुर और जोधपुर को दो जिलों में विभाजित करने के फैसले को टाल सकती है।

मंत्री लालचंद कटारिया दूदू में जोबनेर में शामिल होने से नाराज हैं

खाचरियावास ने कहा- सरकार का एक हिस्सा कह चुका है कि जयपुर जयपुर ही रहेगा। इसमें सब कुछ आ जाता है। अब ग्रामीण दूदू व कोटपूतली में दो जिले बन गए हैं। उन जिलों के ग्रामीण इलाकों में जाना है तो जाएं। हालत यह है कि लालचंद कटारिया से बात हो चुकी है। कटारिया इस बात से नाराज हैं कि जोबनेर को दूदू से मिलाया जा रहा है। वहां के लोग इसका विरोध कर रहे हैं. उसका अधिकार है

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks