शाहपुरा में हुआ राज्य मंत्री का समारोह विवादित: पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को किया लाठीचार्जशाहपुरा में हुआ राज्य मंत्री का समारोह विवादित: पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को किया लाठीचार्ज

Protest against making Shahpura district: राजस्थान के भीलवाड़ा जिले से अलग करके नए शाहपुरा जिले के स्थापना समारोह में राज्य के प्रभारी मंत्री डॉ. महेश जोशी मौजूद थे, जब अचानक भीड़ और पुलिस के बीच मुठभेड़ घटित हो गई। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा, जिससे एक व्यक्ति घायल हो गया। समारोह के बाहर पुलिस का लाठीचार्ज जारी था और भीतर जिले के प्रभारी जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉक्टर महेश जोशी स्थापना दिवस समारोह में शिरकत कर रहे थे।

दरअसल, शाहपुरा जिले के नवगठन के मुद्दे में भीलवाड़ा से मात्र 38 किलोमीटर दूर हुरड़ा तहसील और गुलाबपुरा कस्बे को शाहपुरा में शामिल नहीं करने की वजह से पिछले तीन दिनों से बाजार पूरी तरह से बंद था। इससे शाहपुरा जिले के नागरिक आक्रोशित हुए और प्रदर्शन करने लगे। विरोधकों का दमन करने के लिए पुलिस को कहा गया।

प्रभारी मंत्री डॉ. महेश जोशी ने कहा, “शाहपुरा जिले के विकास की दृष्टि से हम पूरी कोशिश करेंगे कि यह राजस्थान का नंबर-1 जिला बने। विरोध करने का अधिकार तो लोकतंत्र में है, लेकिन तार्किक विरोध से ही सुखद परिणाम मिलता है।” उन्होंने कहा कि विरोधकों की बात भी सुनी जाएगी, और यदि न्यायसंगत होगा तो उनकी बात को आगे पहुंचाया जाएगा।

आंदोलनकारियो ने घोषणा की है कि जब तक शाहपुरा जिले का फिर से सीमांकन करने की मांग के चलते यह अनिश्चितकालीन बंद रखेंगे. इसी विरोध के चलते इन प्रदर्शनकारियों ने राजकीय प्रताप सिंह बाहरठ पीजी कॉलेज में समारोह के बाहर जमकर प्रदर्शन किया. इस दौरान कॉलेज के अंदर चल रहे हवन कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री डॉ. महेश जोशी अजमेर रेंज की आईजी लता मनोज कुमार, भीलवाड़ा पुलिस अधीक्षक आदर्श सिद्धू, शाहपुरा जिले की कलेक्टर डॉ. मंजू, एसपी आलोक श्रीवास्तव और जिला कांग्रेस के अध्यक्ष अक्षय त्रिपाठी मौजूद थे.

समारोह में पहुंचे प्रभारी मंत्री डॉ. महेश जोशी को भी काले झंडे दिखाए गए। इसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज में 13 से अधिक प्रदर्शनकारी घायल कर दिए। एक प्रदर्शनकारी के सिर में लगी चोट के कारण उसे तत्काल अस्पताल में भर्ती करना पड़ा।

विरोधकों ने प्रदर्शनकारियों के साथ मिलकर जिले के गठन के मुद्दे पर सवाल उठाते हुए कहा कि हुरड़ा और गुलाबपुरा को शाहपुरा में शामिल नहीं करने के फैसले को खारिज करें और नए जिले की सीमा को फिर से विचार किया जाए।

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks