उदयपुर में धांधली गैंग का पर्दाफाश, पुलिस थाना प्रतापनगर के अधिकारी हिमांशु सिंह राजावत ने उठाए सफल कदम

Udaipur News : राजस्थान के उदयपुर जिले में डीजल और पेट्रोल भरकर बिना रुपये देने के बाद भाग जाने वाली एक धांधली गैंग का पर्दाफाश हो गया है, जिसमें पुलिस थाना प्रतापनगर के थानाधिकारी हिमांशु सिंह राजावत ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस धांधली गैंग को तीन अभियुक्तों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, और साथ ही एक आल्टो कार भी जब्त कर ली गई है।

इस धांधली का पता चलते ही पुलिस थाना प्रतापनगर ने इस गैंग के अभियुक्तों की तलाश में अभियान शुरू किया। पुलिस अधिकारी श्री मंजीत सिंह, पुलिस उप अधीक्षक श्रीमती शिप्रा राजावत और थाना प्रतापनगर के थानाधिकारी श्री हिमांशु सिंह राजावत के मार्गदर्शन में पुलिस ने तीनों अभियुक्तों को जल्दी से जल्दी ढूंढने का काम किया।

Screenshot 2023 07 22 at 9.15.19 PM

प्राप्त निर्देशानुसार सउनि श्री पर्वत सिंह मय जाब्ता कानि रामस्वरूप नं. 314, कानि शंकर लाल नं. 3099 द्वारा तलाश करते हुए नाकाबंदी के दौरान वारदात में प्रयुक्त गाडी के हुलिये के आधार पर संदिग्ध

1. श्री महेन्द्र सिंह पिता विजय सिंह जाति राजपुत उम्र 29 साल पेशा ड्राईवर निवासी बिछावेडा सगावतो के घर थाना डबोक उदयपुर

2. श्री राजेन्द्र सिंह पिता हिम्मत सिंह राजपुत उम्र 21 वर्ष पेशा फोटोग्राफर निवासी बिछावेडा हिरावत थाना डबोक उदयपुर

3. श्री अर्जुन सिंह पिता नाहर सिंह उम्र 30 वर्ष पेशा वेल्डिंग का कार्य निवासी बिछावेडा सगावतों के घर थाना डबोक जिला उदयपुर को डिटेन किया गया। तीनो से प्रकरण की वारदात के संबंध मे पुछताछ की गयी तो तीनों के द्वारा प्रकरण की वारदात कारित करना स्वीकार किया जिस पर तीनों अभियुक्तों को प्रकरण मे नियमानुसार गिरफ्तार किये गये

इस कार्रवाई के दौरान, पुलिस ने गैंग के तीन अभियुक्तों को नाकाबंदी के दौरान पकड़ लिया गया। इन अभियुक्तों ने तीन अन्य पेट्रोल पम्पों पर भी धांधली की थी। इन धांधलियों में आल्टो कार के नंबर प्लेट पर धोखा देते हुए उसे अलग-अलग नंबर प्लेट के साथ बदलकर वारदात किया जाता था।

तीनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर पूछताछ की गयी तो उनके द्वारा बताया कि तीनों मिलकर रात के समय अल्टो कार जिसके ओरिजनल नम्बर RJ 27 CL. 3923 है। जिसका उपयोग करते हुए वारदात करते समय पेट्रोल पंप पर जाने से पहले कार की नम्बर प्लेट पर 1 की जगह Bय लास्ट 3 की जगह 8 नम्बर का स्ट्रीकर नंबर प्लेट पर चिपका कर के पहले से चिन्हित पेट्रोल पंप (सुनसान स्थान पर स्थित हो) पर देर रात को जाते। जहां पंप के कर्मचारी को अपने यहां पर एल एण्ड टी चलने या अपने ट्रेलर में डीजल खत्म हो जाने की बात बताकर अपने साथ लाये हुए प्लास्टिक के बड़े ड्रमों में डिजल भरवा देते। साथ ही वारदात मे प्रयुक्त कार मे भी पेट्रोल भरवा देते एंव बिना रूपये दिये ही पेट्रोल पंप से भाग जाते

पुलिस के अनुसार, नाकाबंदी के दौरान वारदात में प्रयुक्त माही के आधार पर इन तीनों को गिरफ्तार किया गया। इन अभियुक्तों ने वारदात में प्रयुक्त कार और उसमें भरे गए पेट्रोल और डिजल का अपने पेमेंट नहीं किया था। वारदात के दौरान ये अभियुक्त पेट्रोल पंपों से भाग जाने का प्रयास कर रहे थे,

पुलिस अधिकारियों ने इस पर्दाफाश को बड़ी सफलता के रूप में देखा है और गैंग के सदस्यों को गिरफ्तार करके लोगों की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया गया है। इस साजिश को न्यायिक प्रक्रिया के अंतर्गत सजा का सामना करने के लिए अभियुक्तों को न्यायिक निकाय में पेश किया जाएगा

थानाधिकारी हिमांशु सिंह राजावत के नेतृत्व में पुलिस ने धांधली गैंग के तीन अभियुक्तों को नाकाबंदी के दौरान धर लिया गया और उनके साथ जब्त की गई आल्टो कार, जिसे वे अपनी वारदातों में इस्तेमाल करते थे। इस प्रकार के वारदातों में इन्होंने आल्टो कार के नंबर प्लेट पर धोखा देते हुए उसे अलग-अलग नंबर प्लेट के साथ बदलकर वारदात को किया था।

By Jagnnath Singh Rao

Jagnnath Singh Rao - News Editor and Journalist