कामाख्या मंदिरकामाख्या मंदिर

Kamakhya Temple Story, असम: कामाख्या मंदिर चमत्कारों से भरे इस मंदिर में वे देवी की योनि की पूजा करते हैं और योनि भाग यहीं होने के कारण माता भी यहीं रजस्वला होती हैं।

मां के 51 शक्तिपीठों में से एक कामाख्या शक्तिपीठ बहुत प्रसिद्ध और चमत्कारी मंदिर माना जाता है। कामाख्या देवी के मंदिर को अघोरियों और तांत्रिकों का गढ़ माना जाता है। असम की राजधानी दिसपुर से करीब 7 किमी दूर स्थित यह शक्तिपीठ नीलांचल पर्वत से 10 किमी दूर है। कामाख्या के मंदिर को सभी शक्तिपीठों में महापीठ माना जाता है। इस मंदिर में देवी दुर्गा या मां अंबे की कोई भी मूर्ति या छवि किसी को नहीं दिखेगी। बल्कि इस मंदिर में एक तालाब भी है जो हमेशा फूलों से ढका रहता है। इस कुंड का पानी हमेशा बेचा जाता है। चमत्कारों से भरे इस मंदिर में वे देवी की योनि की पूजा करते हैं और योनि भाग यहीं होने के कारण माता भी यहीं रजस्वला होती हैं।

Kamakhya Temple Story
Kamakhya Temple Story

कामाख्या देवी मंदिर से जुड़ी खास बातें

पौराणिक कथाओं के अनुसार जब देवी सती ने यज्ञ में अपने प्राणों की आहुति दी तो भगवान शिव ने माता सती के मृत शरीर को लेकर पूरे विश्व का भ्रमण किया, जिससे उनका क्रोध और बढ़ गया। तब स्थिति को संभालने के लिए श्री हरि ने अपने सुदर्शन चक्र से माता के शरीर के अंगों को काटना शुरू कर दिया और जिन 52 स्थानों पर देवी सती के अंग पृथ्वी पर गिरे थे, वहां 52 शक्तिपीठ स्थापित किए। ऐसा माना जाता है कि नीलांचल पर्वत में माता की योनि गिरी थी, लेकिन वह कामाख्या देवी शक्तिपीठ यहीं स्थापित हुई थी। ऐसी मान्यता है कि माता की योनि गिरकर देवता में परिवर्तित हो गई थी, जो आज भी मंदिर में विद्यमान है और इस कारण माता की मूर्ति रजस्वला हो जाती है।

तांत्रिक क्रियाओं के लिए जाना जाता है यह हिन्दु तीर्थ, ये रहस्य जानकर हैरान हो जाएंगे आप
तांत्रिक क्रियाओं के लिए जाना जाता है यह हिन्दु तीर्थ, ये रहस्य जानकर हैरान हो जाएंगे आप

इसे महा शक्ति पीठ माना जाता है – Kamakhya Mandir

कामाख्या मंदिर धर्म पुराणों के अनुसार माना जाता है कि इस शक्तिपीठ का नाम कामाख्या इसलिए पड़ा क्योंकि इस स्थान पर भगवान विष्णु ने माता सती के प्रति भगवान शिव के मोह को तोड़ने के लिए अपने चक्र से माता सती के 51 अंग बनाए थे, जहां ये अंग गिरे थे। उन सभी ने माता के एक शक्तिपीठ का निर्माण किया और इस स्थान पर माता की योनि गिरी थी, जो कि एक बहुत ही शक्तिशाली पीठ है। इसलिए इसे महाशक्तिपीठ भी कहते हैं। यूं तो यहां साल भर भक्तों का तांता लगा रहता है, लेकिन इस मंदिर में दुर्गा पूजा, पोहन बिया, दुर्गादेउल, वसंती पूजा, मदनदेउल, अंबुवासी और मनसा पूजा में एक अलग ही महत्व है, जिसके कारण इन दिनों यहां हजारों श्रद्धालु आते हैं

हैरान कर देंगे ये फैक्ट

1. हर साल यहां अम्बुबाची मेला लगाया जाता है। मेले के दौरान यहां पास ही में स्थित ब्रह्मपुत्र का पानी तीन दिन के लिए लाल हो जाता है। पानी का यह लाल रंग कामाख्या देवी के मासिक धर्म के कारण होता है। फिर तीन दिन बाद दर्शन के लिए यहां भक्तों की भीड़ मंदिर में उमड़ पड़ती है। आपको बता दें की मंदिर में भक्तों को बहुत ही अजीबो-गरीब प्रसाद दिया जाता है। दूसरे शक्तिपीठों की अपेक्षा कामाख्या देवी मंदिर में प्रसाद के रूप में लाल रंग का गीला कपड़ा दिया जाता है।

कहा जाता है कि जब मां को तीन दिन का रजस्वला होता है, तो सफेद रंग का कपड़ा मंदिर के अंदर बिछा दिया जाता है। तीन दिन बाद जब मंदिर के दरवाजे खोले जाते हैं, तब वह वस्त्र माता के रज से लाल रंग से भीगा होता है। इस कपड़े को अम्बुवाची वस्त्र कहते हैं। इसे ही भक्तों को प्रसाद के रूप में दिया जाता है।

2. काली और त्रिपुर सुंदरी देवी के बाद कामाख्या माता तांत्रिकों की सबसे महत्वपूर्ण देवी है। कामाख्या देवी की पूजा भगवान शिव के नववधू के रूप में की जाती है, जो कि मुक्तिको स्वीकार करती है और सभी इच्छाएं पूर्री करती है।

3. मंदिर परिसर में जो भी भक्तअपनी मुराद लेकर आता है, उसकी हर मुराद पूरी होती है। इस मंदिर के साथ लगे एक मंदिर में आपको मां की मूर्ति विराजित मिलेगी। जिसे कामादेव मंदिर कहा जाता है।

4. माना जाता है कि यहां के तांत्रिक बुरी शक्तियों को दूर करने में भी समर्थ होते हैं। हालांकि वह अपनी शक्तियों का इस्तेमाल काफी सोच-विचार कर ही करते हैं। कामाख्या के तांत्रिक और साधु चमत्कार करने में सक्षम होते हैं। कई लोग विवाह, बच्चे, धन और दूसरी इच्छाओं की पूर्ति के लिए कामाख्या की तीर्थयात्रा पर जाते हैं।

5. कामाख्या मंदिर तीन हिस्सों में बना हुआ है। पहला हिस्सा सबसे बड़ा है इसमें हर व्यक्ति को नहीं जाने दिया जाता, वहीं दूसरे हिस्से में माता के दर्शन होते हैं जहां एक पत्थर से हर वक्त पानी निकलता रहता है। माना जाता है कि महीने के तीन दिन माता को रजस्वला होता है। इन तीन दिनों तक मंदिर के पट बंद रहते हैं। तीन दिन बाद दोबारा बड़े ही धूमधाम से मंदिर के पट खोले जाते हैं।

6. इस जगह को तंत्र साधना के लिए सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। यहां पर साधु और अघोरियों का तांता लगा रहता है। यहां पर काला जादू भी किया जाता ह। अगर कोई व्यक्ति काला जादू से पीडि़त है, तो वह यहां आकर इस समस्या से निजात भी पा सकता है।

साधु और अघोरी करते हैं तंत्र-मंत्र
साधु और अघोरी करते हैं तंत्र-मंत्र

कामाख्या मंदिर: तांत्रिक क्रियाओं के लिए मशहूर है यह हिन्दु तीर्थ, ये रहस्य जानकर हैरान हो जाएंगे

कामाख्या मंदिर में काले जादू की पूजा के बारे में बहुत लंबे समय से मान्यता है। यहां आपको बता दें कि इस मंदिर में काला जादू करने जैसी तांत्रिक क्रियाओं को अंजाम नहीं दिया जाता। यहां केवल लोग काला जादू से छुटकारा पाने या उतारने के लिए ही आते हैं। हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि 21वीं सदी में भी लोग काला जादू की समस्या से पीडि़त हैं। लोग ठीक होने के विश्वास और पूरी आस्था के साथ यहां आते हैं।

साधु और अघोरी करते हैं तंत्र-मंत्र

यहां काला जादू या वशीकरण हटाने की पूजा साधु और अघोरियों द्वारा की जाती है। साधु और अघोरी हमेशा मंदिर परिसर में रहते हैं। मान्यता है कि ये अघोरी दस महाविद्याएं जानते हैं। पूजा में काले जादू के कष्टों का समाधान शामिल है। देखकर आप कह सकते हैं कि कामाख्या देवी का मंदिर समस्या का इलाज करने के लिए है, न कि मानवता के खिलाफ विद्याओं का उपयोग करने के लिए। यहां के साधु लोगों को बुरी आत्माओं से छुटकारा दिलाने में लोगों की मदद करते हैं। कहा यह भी जाता है कि मंदिर के आसपास बैठने वाले साधुओं को भी सिद्धियां और शक्तियां प्राप्त हैं।

किए जाते हैं अनुष्ठान

कामाख्या देवी मंदिर में होने वाले अनुष्ठानों का महत्वपूर्ण हिस्सा है पशु बलि। यहां मान्यता है कि देवी कामाख्या को प्रसन्न करना है तो बकरे और भैंसों की बलि देनी होगी। लेकिन किसी भी मादा जानवर की बलि यहां नहीं दी जाती है।

Kamakhya Temple Story

Kamakhya Temple Story: यहां होती है योनि पूजा, औरतों का है राज, की जाती है वशीकरण पूजा

यहां वशीकरण पूजा भी की जाती है। मान्यता है कि वशीकरण आकर्षण की पूजा है, मूल रूप से पूजा एक सही इच्छा के साथ की जाती है। इस पूजा का मुख्य उद्देश्य होता है कि पति-पत्नी का रिश्ता बचा रहे। कामाख्या में वशीकरण दो लोगों के विचारों को एक जैसा बनाना है और उन्हें मानसिक रूप से सहज बनाने के उद्देश्य से ही वशीकरण की यह पूजा की जाती है। ताकि दंपति एक बेहतर जीवन व्यतीत कर सकें।

अनुष्ठान में लग जाते हैं 4-5 घंटे

इस पूजा और हवन में कुल 4 से 5 घंटे का समय लगता है। काला जादू दूर करने के बाद भक्त ऐसी चीजें घर पर ले जा सकते हैं, जैसे कामिया सिंदूर, प्रसाद के साथ पूजा टोकरी, नकारात्मक ऊर्जा से सुरक्षा के लिए एक ताबीज और पूजा के दौरान रखा जाने वाला रुद्राक्ष।

कैसे पहुंचें कामाख्या मंदिर

– सड़क मार्ग से : कामाख्या मंदिर सड़क मार्ग से शहर के कई केंद्रों से जुड़ा हुआ है। गुवाहाटी हवाई मार्ग, सड़कों और रेलवे के माध्यम से भी पहुंचा जा सकता है।

– रेल से : कामाख्या शहर का रेलवे नाम कामाख्या माता (कामाख्या रेलवे स्टेशन) है। यहां से आप आसानी से मंदिर तक पहुंच सकते हैं।

– हवाई मार्ग से : क्षेत्र के पास का हवाई अड्डा बोरचार्ड में गोपीनाथ बोरदोलोई हवाई अड्डा है, जो शहर के केंद्र से 14 किमी दूर है। मंदिर जाने के लिए कोलकाता से नियमित उड़ानें हैं।

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks