Rajasthan News: हाल ही में एक बयान में Film Adipurush , नितिन पुजारी ने आने वाली फिल्म आदिपुरुष और माता सीता जी के चित्रण के बारे में अपनी चिंता व्यक्त की है। पुजारी ने कृति सेनन की कास्टिंग पसंद पर ध्यान आकर्षित किया, जो फिल्म में श्रद्धेय चरित्र की भूमिका पर निबंध करती है, और एक अन्य प्रोडक्शन में उनकी उपस्थिति पर प्रकाश डाला, जहां वह बिकनी में नृत्य करती हुई दिखाई देती हैं।

सालासर बालाजी नितिन पुजारी का फिल्म आदिपुरुष पर विरोध
सालासर बालाजी नितिन पुजारी का फिल्म आदिपुरुष पर विरोध

कृति सेनन की फिल्मों में विवाद: आदिपुरुष में माता सीता का भूमिका, दूसरी फिल्म में बिकनी डांस

गोलमाल रिटर्न्स, हेरोपंती, लुक्का छिप्पी जैसी प्रमुख फिल्मों में अपनी प्रतिभा से चर्चा में रही बॉलीवुड अदाकारा कृति सेनन ने अब फिल्म ‘आदिपुरुष’ में माता सीता की भूमिका निभाने का बड़ा जिम्मा संभाला है। इस भव्य प्रोजेक्ट में उनके साथ प्रभास और सैफ अली खान भी महत्वपूर्ण भूमिकाओं में नजर आएंगे।

हालांकि, कुछ दिनों पहले ही इस विवादास्पद घोषणा के बाद कृति पर आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। कृति सेनन का यह फिल्म एक्ट्रेस ने दूसरी फिल्म में बिकनी में डांस करने की खबरें आई हैं। यह बात सालासर बालाजी के नितिन पुजारी जैसे धार्मिक नेताओं ने उठाई है और इसे चुनौतीपूर्ण बताया है

फिल्म उद्योग का मुद्दा: क्या कला के नाम पर धार्मिक भावनाओं का अपमान हो रहा है?

नितिन पुजारी ने इस मामले पर अपनी चिंता व्यक्त की है और सवाल उठाए हैं कि कृति सेनन जैसी अभिनेत्री को एक फिल्म में माता सीता की पवित्र भूमिका निभाते हुए देखना क्या उचित है, जबकि दूसरी फिल्म में उन्हें बिकनी में डांस करते हुए देखा जा सकता है।

धार्मिक नेता नितिन पुजारी ने कहा, “हमारे सामाजिक और धार्मिक मूल्यों के प्रति सम्मान और संवेदनशीलता बरतना चाहिए। माता सीता जी की भूमिका को एक पवित्र रूप में पेश करते हुए, कृति सेनन के द्वारा बिकनी में डांस करने का विचार देखकर हमें चिंता होती है। यह धार्मिक और सामाजिक मतभेद को उत्पन्न कर सकता है और हमारे समाज की स्वरूपता को क्षति पहुंचा सकता है।”

Film Adipurush का मुद्दा: क्या कला के नाम पर धार्मिक भावनाओं का अपमान हो रहा है?

Film Adipurush के संबंध में उठी यह विवाद प्रतिरोध की आवाजों को बढ़ा रही है, जहां कई लोगों ने इस फिल्म को लेकर अपनी असंतोष व्यक्त की है और इसे हिंदू धर्म संबंधी पाठों और हमारे धर्म के प्रति आस्था पर अपमानात्मक माना है

इन भूमिकाओं के संयोजन ने एक गरमागरम बहस छिड़ गई है, जिसमें पुजारी ने एक अभिनेत्री को कास्ट करने के निर्णय पर सवाल उठाया है, जो एक फिल्म में विपरीत और संभावित रूप से विवादास्पद गतिविधियों में संलग्न होने के दौरान एक फिल्म में एक पवित्र व्यक्ति को चित्रित करती है। पुजारी ने धार्मिक चरित्रों के प्रति संवेदनशीलता और सम्मान की आवश्यकता पर बल दिया, विशेष रूप से जिन्हें लाखों लोग गहराई से मानते हैं।

इस मुद्दे ने धार्मिक चरित्रों को चित्रित करते समय अभिनेताओं और फिल्म निर्माताओं की जिम्मेदारी के बारे में चर्चाओं को प्रज्वलित किया है, क्योंकि यह संभावित गलत व्याख्याओं और धार्मिक भावनाओं पर संभावित प्रभाव के बारे में चिंता पैदा करता है। आलोचकों का तर्क है कि इस तरह के चित्रण हिंदू धर्म और उसके अनुयायियों के प्रति उपहास और अनादर को आमंत्रित कर सकते हैं।

फिल्म अदाकारा कृति सेनन की धार्मिक भूमिका पर विवाद: कला और धर्म के मध्य संघर्ष

यह विवाद संगठित रूप से फिल्म और मनोरंजन उद्योग की जिम्मेदारी पर भी सवाल उठाता है। कई लोग वाद-विवाद के मध्य में इस मुद्दे पर अपनी राय रख रहे हैं। कुछ लोग बता रहे हैं कि कला और मनोरंजन में स्वतंत्रता का अधिकार होना चाहिए, जबकि दूसरे कह रहे हैं कि यह स्वतंत्रता धार्मिक भावनाओं का अपमान नहीं करनी चाहिए।

इस विवाद के बीच, आम जनता की राय भी विभाजित है। कुछ लोग मानते हैं कि कृति सेनन को उनके काम के लिए निर्दोष ठहराना चाहिए और फिल्मों में उनकी प्रतिभा को महत्व देना चाहिए। वे यह भी दावा करते हैं कि किसी अभिनेता के व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन को अलग रखना चाहिए।

इसके विपरीत, दूसरी ओर कुछ लोगों का कहना है कि अभिनेत्रियों को जागरूकता और जिम्मेदारी दिखानी चाहिए जब वे ऐसी पवित्र भूमिकाओं को निभाते हैं जो मान्यता से जुड़ी होती हैं ,

इस पर विचार करते हुए उन्होंने धार्मिक भावनाओं का सम्मान करने की आवश्यकता को जोर दिया है।

कला और मनोरंजन में स्वतंत्रता या धार्मिक भावनाओं का सम्मान: कृति सेनन विवाद में बवाल

फिल्म उद्योग में विवादों की सामान्य बात है, लेकिन इस मामले में धार्मिक संबंधों के मद्देनजर विवाद गहराया है। बाजार और दर्शकों के बीच इस विवाद से प्रतिक्रिया आ रही है, और फिल्म के निर्माताओं को इसे संभालने और ध्यान देने की जरूरत हो सकती है।

Film Adipurush के निर्माताओं ने इस विवाद का कुछ बयान नहीं दिया है, लेकिन अभिनेत्री कृति सेनन के पक्ष में कुछ बॉलीवुड संगठनों ने उठाया है। उन्होंने कहा है कि कला में स्वतंत्रता और विविधता होनी चाहिए, और किसी अभिनेता के अन्यायपूर्ण तरीके से निर्दोष ठहराना गलत होगा।

कृति सेनन के फिल्म आदिपुरुष में बिकिनी डांस के बाद विवाद: क्या अभिनेत्रियों की जिम्मेदारी बनी जागरूकता दिखाना?

Film Adipurush के बावजूद इस विवाद ने कृति सेनन की जिंदगी पर भी प्रभाव डाला है। वे इस मामले में अपनी तरफ से कोई बयान नहीं दिए हैं

आदिपुरुष के आसपास के विवाद ने धार्मिक ग्रंथों से श्रद्धेय आंकड़ों के चित्रण और कलाकारों को उनकी पसंद के नतीजों पर विचार करने की आवश्यकता के बारे में व्यापक बातचीत की ओर ध्यान आकर्षित किया है। यह कलात्मक स्वतंत्रता और सांस्कृतिक संवेदनशीलता के बीच संतुलन स्थापित करने के महत्व को रेखांकित करता है।

जैसा कि विवाद सामने आता है, यह धर्म और विश्वास से संबंधित विषयों को संभालने के दौरान विचारशील संवाद में शामिल होने और विविध समुदायों की भावनाओं का सम्मान करने के महत्व की याद दिलाता है

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks