Udaipur: अक्षय कुमार की फिल्म `गब्बर इज बैक` जैसा मामला उदयपुर में घटा, पैसे के लिए अस्पताल ने किया मुर्दे का इलाज, Paras JK Hospital में युवती को मौत के बाद भी लगभग 36 घंटे वेंटिलेटर पर रखा ?

शहर के शोभागपुरा स्थित पारस जेके अस्‍पताल ( Paras JK Hospital udaipur) में उपचार के दौरान नागालैण्ड की एक युवती की मौत हो गई। मृतका की बहन ने हॉस्पीटल प्रबंधन पर लापरवाही से उपचार करने का आरोप लगाया है। मृतका उदयपुर में स्पा सेंटर में काम करती थी।

पुलिस के अनुसार आयड़ स्थित लेकसिटी मॉल में संचालित स्पॉ सेंटर पर कार्य करने वाली खयोबेनी (34) पुत्री रोसिओ निवासी पंक्तिया बोरवा नागालेंड हाल जैन हॉस्टल सुभाषनगर को पथरी शिकायत थी। 15 अगस्त को इसके पेट में दर्द होने पर इसे शोभागपुरा स्थित पारस जेके चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया था। 16 अगस्त को डॉक्टर मुकेश कुमार सेवक ने किडनी में पथरी का ऑपरेशन किया।

परिजनों के अनुसार ऑपरेशन करने के बाद से ही इसकी हालत बिगड़ गई और उसके पूरे शरीर में इंफैक्शन हो गया। हालत बिगड़ती देख डॉक्टरों ने उसे 17 अगस्त को सुबह वेंटिलेटर पर ले लिया। उसी दौरान उसकी मृत्यु हो गई थी, लेकिन हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने 18 अगस्त की शाम को उसे मृत घोषित किया।

मृतका की बहन तेजीबैनी ने Paras JK Hospital के खिलाफ लापरवाही पूर्वक इलाज करने की रिपोर्ट दी, जिस पर एएसआई भगवतीलाल ने शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया। प्रथम दृष्टया यह पाया गया कि युवती की मौत करीब 36 से 40 घंटे पूर्व हो चुकी थीं। उसके शरीर में जकडन के लक्षण पाए गए। मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट के बाद ही मौत के वास्तविक कारणों का खुलासा होगा

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor

Enable Notifications OK No thanks