Manipur Incident: मणिपुर (Manipur) की हैवानियत को पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शर्मसार करने वाला बताया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि इसकी वजह से मेरे हृदय में पीड़ा और क्रोध है. गुनहगारों को नहीं बख्शा जाएगा.

संसद के मानसून सत्र की शुरुआत से पहले संसद भवन परिसर में पत्रकारों से बात करते हुए पीएम ने कहा कि मणिपुर की यह घटना 140 करोड़ देशवासियों के लिए शर्मनाक है और दोषियों को कतई बक्शा नहीं जाएगा।

करीब 80 दिनों से हिंसा की आग में जल रहे मणिपुर को लेकर आखिरकार पीएम मोदी ने चुप्पी तोड़ दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मणिपुर में महिलाओं के साथ हुई वीभत्स वारदात को देश की 140 करोड़ जनता के लिए शर्मनाक बताते हुए कहा है कि वे इस घटना से पीड़ा और क्रोध से भरे हुए हैं और मणिपुर की घटना किसी भी सभ्य समाज के लिए शर्मनाक घटना है।

संसद के मानसून सत्र की शुरुआत से पहले संसद भवन परिसर में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि यह घटना 140 करोड़ देशवासियों के लिए शर्मनाक है और दोषियों को कतई बक्शा नहीं जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अपने-अपने राज्यों में कानून व्यवस्था को ठीक करने और महिलाओं की सुरक्षा को सुनिश्चित करने की अपील करते हुए कहा कि घटना चाहे राजस्थान में हो,छत्तीसगढ़ में हो या मणिपुर में हो, गुनाहगार को बख्शा नहीं जाएगा।

मणिपुर की हैवानियत का SC ने लिया संज्ञान

बता दें कि मणिपुर की हैवानियत का सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान ले लिया है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और मणिपुर सरकार से उसे यह बताने को कहा कि अपराधियों को सजा दिलाने के लिए उन्होंने क्या कार्रवाई की है. सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया कि केंद्र और राज्य को उठाए गए कदमों की अदालत को जानकारी दें. सुप्रीम कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई अगले शुक्रवार को तय की है.

आरोपियों पर अब तक क्या हुई कार्रवाई?

इस बीच, मणिपुर के सीएम एन बीरेन सिंह ने ट्वीट कर कहा है कि वीडियो सामने आने के तुरंत बाद घटना का स्वत: संज्ञान लेते हुए मणिपुर पुलिस हरकत में आई और आज सुबह पहली गिरफ्तारी की. फिलहाल मामले की जांच चल रही है और हम यह सुनिश्चित करेंगे कि सभी अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए, जिसमें मौत की सजा की संभावना पर भी विचार किया जाए.

मणिपुर का शर्मनाक कांड!

गौरतलब है कि मणिपुर में दो महिलाओं को बिना कपड़ों के सरेआम सड़क पर घुमाया गया है. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जिसमें दिख रहा है कि कुछ पुरुष असहाय महिलाओं के संग छेड़छाड़ कर रहे हैं. निर्बल महिलाएं रोती-चीखती और गुहार लगाती दिख रही हैं. जानकारी के मुताबिक, ये शर्मनाक घटना 4 मई की है. इंडिजीनियस ट्राइबल लीडर्स फॉरम के अनुसार, ये घटना मणिपुर की राजधानी इंफाल से करीब 35 किलोमीटर दूर कांगपोकपी में हुई.

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor