KK GoswamiKK Goswami

भारतीय टेलीविजन और फिल्म इंडस्ट्री में एक ऐसा नाम है, जिसने अपने छोटे कद के बावजूद अपनी अद्वितीय अभिनय क्षमता से दर्शकों का दिल जीता है। हां, हम बात कर रहे हैं ‘खली-बली’ के रोल से प्रसिद्ध टीवी-फिल्म एक्टर K.K.Goswami की। केके गोस्वामी ने न केवल हिंदी टेलीविजन में बल्कि गुजराती, मराठी, बंगाली और भोजपुरी फिल्मों में भी अपनी पहचान बनाई है।

‘टीवी या फिल्म इंडस्ट्री में आगे नहीं बढ़ सकता कोई’ – यह मानसिकता K.K.Goswami (केके गोस्वामी) की नहीं है। उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत, उत्कृष्ट अभिनय कौशल और दृढ़ संकल्प की मदद से इंडस्ट्री में एक महत्वपूर्ण स्थान हासिल किया है।

बिहार के ‘गबरू’ K.K.Goswami बने मुंबई के टॉप 10 एक्टर, सोशल मीडिया पर तहलका!

बिहार ने भारतीय सिनेमा उद्योग में अपने कलाकारों की महत्वपूर्ण योगदान को कभी भी अनमाना नहीं किया जा सकता। बिहार के कलाकारों ने सिनेमा और टीवी उद्योग में अभूतपूर्व योगदान दिया है। बिहार के कलाकारों के योगदान के बीच मुंबई के चमकते हुए सिनेमा जगत में एक ऐसा नाम भी शामिल है, जिन्होंने सिनेमा से लेकर टेलीविजन तक के प्रेक्षकों का दिल जीता है।

KK Goswami
KK Goswami

कृष्णकांत गोस्वामी, जिन्हें K.K.Goswami के नाम से जाना जाता है, बिहार के शीर्ष 10 एक्टरों में स्थान पाकर मुंबई में एक सितारे की तरह चमक रहे हैं। यहां तक कि कई बिहारी कलाकार जैसे कि शत्रुघ्न सिन्हा, शेखर सुमन, मनोज बाजपेयी, संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी, अभिमन्न सिंह ने अपने प्रदर्शनों के साथ मुंबई की इंडस्ट्री में बड़ा बढ़कर दिखाया है, लेकिन इन सभी में से कृष्णकांत गोस्वामी की योगदान भी कम नहीं है।

जन्मः 3 सितंबर 1973 उम्रः 49 वर्ष

K.K.Goswami (केके गोस्वामी) की छोटी शारीरिक लम्बाई के बावजूद, उनके हौंसले उनसे कहीं ज़्यादा बुलंद हैं। उन्होंने साबित किया है कि आपकी आकार या आवश्यकताओं से कोई नहीं रोक सकता, जब आपके पास दृढ़ संकल्प हो।

कैरियर की शुरुआत सीरियल ‘जूनियर जी’ के साथ हुई, जिसमें उन्होंने ‘बोनापार्ट’ की भूमिका में उम्रदराज दर्शाया। इसके बाद उन्होंने कई हिट टेलीविजन सीरियल्स जैसे ‘शाका लाका बूम बूम’, ‘मजूबा का अजूबा’, ‘विकराल और गबराल’ आदि में भी महत्वपूर्ण किरदारों को जिंदा किया।

सोशल मीडिया पर छाए

आजकल केके गोस्वामी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए लोगों के घरों तक मनोरंजन पहुंचा रहे हैं। उनके यूट्यूब चैनल और इंस्टाग्राम पेज पर उनके चुटकुलों, हास्य वीडियोज़, और रियल लाइफ मोमेंट्स से भरपूर मनोरंजन मिलता है।

अवार्ड्स और सम्मान

K.K.Goswami ने अपने उत्कृष्ट अभिनय के लिए कई अवार्ड्स जीते हैं, जिनमें स्टार परिवार अवार्ड्स और ज़ी रिश्ते अवार्ड भी शामिल हैं। इन सम्मानों ने उनकी मेहनत और प्रतिभा को मान्यता दिलाई है और उन्हें इंडस्ट्री में एक बेहतर और अद्वितीय स्थान पर पहुंचाया है।

छोटे कद, बड़े हौंसले

K.K.Goswami (केके गोस्वामी) की अनोखी कहानी सबको प्रेरित करती है कि हालात चाहे जैसे भी हों, अगर हौंसले बुलंद हैं तो आप किसी भी मुश्किल को पार कर सकते हैं। उनका मनोबल उनकी कड़ी मेहनत, आत्म-विश्वास और संकल्प से बुलंद है, जिनसे उन्होंने दर्शकों के दिलों में अपनी जगह बनाई है।

केके गोस्वामी के अभिनय से दर्शकों का मनोरंजन करते रहने की आशा है, और उनकी कहानी से अनगिनत युवा उत्साहित हों, कि वे भी अपने हौंसले की मदद से अपने सपनों को पूरा कर सकते हैं।

के.के गोस्वामी नहीं चाहते कि बेटा इंडस्ट्री में आए​

K.K.Goswami बताते हैं कि वह हमेशा बेटे को सलाह देते हैं कि फिल्म इंडस्ट्री में न आए। शुरुआत में बेटा का रुझान इस ओर था लेकिन वाइफ और उन्होंने समझाया कि यहां बहुत स्ट्रगल है। ऐसी जगह हैं जहां कितना भी गड्ढा खोदे लेकिन पानी नहीं निकलेगा।

K.K.Goswami ने बताया कि उन्होंने अपने बेटे को अपने अनुभव से सिखाया कि इस क्षेत्र में सफलता पाने के लिए मेहनत, सहनशीलता और दृढ़ संकल्प की आवश्यकता होती है। वे यह भी जोड़ते हैं कि अभिनय क्षेत्र में स्ट्रगल का बोझ अद्यतन रहता है और उसे सहन करने के लिए दृढ़ मनोबल चाहिए।

KK Goswami
KK Goswami

K.K.Goswami के अनुसार, वे चाहते हैं कि उनके बेटे अपने रूचिकर्मों के प्रति पुरी तरह से समर्पित हों और सफलता की दिशा में अपने आत्म-विश्वास को बनाए रखें। वे उन्हें उनके अनुभव से गुजरने की सलाह देते हैं और सिखाते हैं कि सफलता के लिए मेहनत और दृढ़ता सबसे महत्वपूर्ण हैं

‘विक्राल और गबराल’ से लेकर ‘शरारत’ तक: ‘शक्तिमान’ और ‘जूनियर जी’ के अलावा ‘अक्कड़ बक्कड़ बंबे बो’ और ‘गुटर गु’ जैसे शोज की जान

अपने शानदार अभिनय से टेलीविजन के जगत में एक विशेष स्थान प्राप्त किया है। उन्होंने ‘विक्राल और गबराल’, ‘शरारत’, ‘अक्कड़ बक्कड़ बंबे बो’ और ‘गुटर गु’ जैसे कई शोज में महत्वपूर्ण किरदार निभाए हैं।

शरारत: ‘शरारत’ नामक कॉमेडी धारावाहिक में भी कृष्णकांत ने मजेदार किरदार निभाए। उनकी हास्ययात्रा ने दर्शकों को हंसी की ओर मोड़ दिया और उन्हें एक बेहद पसंदीदा नायक बनाया।अक्कड़ बक्कड़ बंबे बो: इस कॉमेडी धारावाहिक में कृष्णकांत ने गप्पू के भतीजे के किरदार को निभाया और उनकी मनोरंजक प्रस्तुति ने दर्शकों को मुस्कराती हुई छोड़ दी।

गुटर गु: K.K.Goswami ने टेलीविजन की इस कॉमेडी धारावाहिक में पप्पू महाराज का किरदार निभाया, जिसने उन्हें दर्शकों के दिलों में स्थान बनाया।विक्राल और गबराल, शरारत, अक्कड़ बक्कड़ बंबे बो और गुटर गु जैसे शोज में अपने अद्वितीय अभिनय से प्रसिद्ध, के.के गोस्वामी ने टेलीविजन के माध्यम से दर्शकों के दिलों में जगह बनाई

भारतीय फिल्म और टेलीविजन क्षेत्र में ‘बड़ा कम ब्रिलियंट’ आदर्श अभिनेता के.के के गोस्वामी ने अपने कम उंचाई के बावजूद न सिर्फ टेलीविजन, बल्कि गुजराती, मराठी, भोजपुरी और बंगाली फिल्मों में भी अपने अद्वितीय अभिनय का प्रदर्शन किया है।

कृष्णकांत गोस्वामी, जिन्हें ‘3 फीट के अद्वितीय अभिनेता’ के रूप में जाना जाता है, ने अपने अद्वितीय अभिनय के जरिए अपने आप को सिनेमा और टेलीविजन के क्षेत्र में स्थापित किया है। ‘विक्राल और गबराल’, ‘शरारत’, ‘अक्कड़ बक्कड़ बंबे बो’ और ‘गुटर गु’ जैसे शोज में उन्होंने दर्शकों के दिलों में जगह बनाई है।

छोटे कद को सफलता के आड़े नहीं आने दिया एक्टर K.K.Goswami ने, दोगुनी लंबी लड़की से की शादी

अभिनेता K.K.Goswami (के.के के गोस्वामी) के प्रेमकहानी में कम हाइट की वजह से मिले तानों और परिश्रम से परिपूर्ण है। उनकी वाइफ, पीकू गोस्वामी, जो कि उनसे करीब दुगुनी लंबी हैं, ने अपने प्यार में किए गए तानों का सामना किया और उन्हें हासिल किया।

के.के गोस्वामी ने एक इंटरव्यू में बताया कि जब उन्होंने पीकू को पहली बार देखने के लिए उसके घर गए थे, तो उनके परिवार ने उनकी कम हाइट की वजह से शादी से इनकार कर दिया था। उनके प्यार में आए तानों के बावजूद, पीकू ने अपने संकल्प को मजबूत किया और उन्हें प्यार का इज़हार किया।

इस प्यार और संकल्प के साथ, पीकू ने अपनी दृढ़ इच्छा को पूरा किया और के.के गोस्वामी के साथ विवाह करने का फैसला लिया। उनकी अद्वितीय प्रेमकहानी दिखाती है कि प्यार की शक्ति और संकल्प से किसी भी परिस्थिति को परास्त किया जा सकता है।

जिंदगी की पाठशाला: K.K.Goswami की अनूठी कहानी से मिलेगी प्रेरणा

जिंदगी आपको जीना सिखाती है, हर पल को जीने के लिए मौके देती है, बशर्ते आप उन मौकों को पहचान जाएं। आगे न पड़ पाने के पीछे हम कई बार दूसरों पर दोषारोपण किया करते हैं। कभी आर्थिक तो कभी शारीरिक कमियों का हवाला देते हैं लेकिन जिन्हें आगे बढ़ना होता है वो अपने रास्ते खुद ब खुद बना लेते हैं। के के गोस्वामी की कहानी ऐसी ही है, 3 फुट के इस कलाकार के जीवन का अब तक का सफर हम सब के लिए प्रेरणास्त्रोत हैं।

उनकी कहानी उनके छोटे कद की परेशानियों से भरपूर है, जिन्होंने उन्हें संघर्ष की ओर आग्रहण किया। बचपन में उन्होंने गांव वालों के तानों का सामना किया, पर वे उन्हें इग्नोर करना सिख गए। शहर में भी उन्हें घूरती आंखें निभानी पड़ी, लेकिन उन्होंने अपनी मनोबल से हर मुश्किल को पार किया। एक रात रास्ते में हुई एक छोटी सी मिशापने के बाद, उनकी जिंदगी की दिशा बदल गई। एक डायरेक्टर से मिलकर उन्हें पहली फिल्म की ऑडिशन मिली, जिसने उन्हें एक नया दृष्टिकोण प्रदान किया।

K.K.Goswami की पत्नी भी उनके संघर्षों की एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। उनकी शादी की कहानी से आपको यह सिख मिलेगा कि सफलता के लिए कद की कोई महत्व नहीं होती। जब उनकी शादी में आखिरी समय में बाधाएं आईं, तो उनकी पत्नी ने उन्हें साहस दिखाया और उनके सपनों के पीछे खड़ी रही।

K.K.Goswami की यह अनूठी कहानी हमें यह सिखाती है कि सफलता का मार्ग केवल कद से नहीं निर्भर करता, बल्कि आत्मविश्वास, मेहनत, और सामर्थ्य के माध्यम से हम अपने लक्ष्यों की प्राप्ति कर सकते हैं। उनकी यह कहानी हमें यह सिखाती है कि जब आप खुद पर विश्वास करते हैं, तो आप सभी मानवाधिकारों को परे कर सकते हैं और अपने सपनों को हकीकत में बदल सकते हैं

By ब्रजेश मेहर

बृजेश मेहर एक अनुभवी पत्रकार और P.R.O. हैं जिनका भोजपुरी सिनेमा पर विशेष ध्यान है। मनोरंजन उद्योग में कई वर्षों के करियर के साथ, ब्रजेश ने भोजपुरी फिल्मों की दुनिया में खुद को एक जानकार और सम्मानित आवाज के रूप में स्थापित किया है। एक पत्रकार के रूप में, ब्रजेश ने भोजपुरी सिनेमा से संबंधित विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला को कवर किया है, जिसमें अभिनेताओं और निर्देशकों के साक्षात्कार, बॉक्स ऑफिस के रुझानों का विश्लेषण और नवीनतम रिलीज़ की समीक्षा शामिल है। उन्होंने उद्योग में कई प्रमुख प्रकाशनों में योगदान दिया है और अपनी व्यावहारिक और सूचनात्मक रिपोर्टिंग के लिए एक प्रतिष्ठा बनाई है।