Nitin PujariNitin Pujari

Salasar : सालासर बालाजी धाम भारत के राजस्थान के चूरू जिले में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह भगवान हनुमान को समर्पित है और हर साल दुनिया भर से लाखों भक्तों को आकर्षित करता है। सालासर बालाजी धाम के 9वीं पीढ़ी के पुजारी Nitin Pujari (नितिन पुजारी) ने हाल ही में मंदिर के संस्थापक संत मोहनदास महाराज के समाधि दिवस के बारे में कुछ जानकारियां साझा कीं।

संत मोहनदास महाराज का समाधि दिवस

संत मोहनदास महाराज का समाधि दिवस

अपने सोशल मीडिया पोस्ट में नितिन पुजारी ने बताया कि संत मोहनदास महाराज ने वैशाख शुक्ल त्रयोदशी को बालाजी हनुमान जी को सालासर धाम में मूर्ति के रूप में प्रतिष्ठित कर जीवित समाधि ले ली थी. उन्होंने संत के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि उनकी कृपा से ही आज लोग श्री बालाजी हनुमान जी के दर्शन कर पाते हैं।

Nitin Pujari ने किया विरोध , बॉलीवुड ने सालासर धाम के सामने किया सरेंडर, प्रभास की फिल्म आदिपुरुष की रिलीज डेट आगे बढ़ी,
Nitin Pujari ने किया विरोध , बॉलीवुड ने सालासर धाम के सामने किया सरेंडर, प्रभास की फिल्म आदिपुरुष की रिलीज डेट आगे बढ़ी,

नितिन पुजारी ने मंदिर के इतिहास और यह कैसे अस्तित्व में आया, इसे भी साझा किया। भक्त प्रवर मोहन दास जी ने अपने भतीजे उदयराम जी को श्री बालाजी महाराज की सेवा सौंप कर उन्हें मन्दिर का प्रथम पुजारी नियुक्त किया था। उस अवसर पर ग्रामवासियों, साधु-संतों के अलावा श्री हनुमान जी (बालाजी) भी पधारें। भक्त प्रवर श्री मोहनदास जी ने समाधि लेने से पहले श्री बालाजी से प्रार्थना की। बहन कान्ही के पुत्र उदयराम और उनके वंशजों को घर में रहकर पूजा और सेवा करते रहने का आशीर्वाद दें और दीर्घायु प्राप्त करें। तत्पश्चात् सवंत 1850 को वैशाख शुक त्रयोदशी को प्रात: भक्त शिरोमणि मोहनदास जी ने जीवित समाधि ले ली।

देवता की भक्ति और सालासर बालाजी धाम में उनकी अथक सेवा के लिए जाने जाते हैं। Nitin Pujari अपने सोशल मीडिया पेज और चैनल के माध्यम से बालाजी महाराज के दर्शन और आरती के साथ भक्तों की मदद करने के प्रयासों के लिए सोशल मीडिया पर भी बहुत ध्यान आकर्षित किया है। दुनिया भर के लोग उनके सोशल मीडिया हैंडल के माध्यम से मंदिर में दर्शन के लिए तत्पर रहते हैं।

संत मोहनदास महाराज का समाधि दिवस सालासर बालाजी धाम के श्रद्धालुओं के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है। यह समय संत और मंदिर के प्रति उनके योगदान को याद करने का है। नितिन पुजारी सभी भक्तों को भक्ति के साथ इस अवसर को मनाने और श्री बालाजी हनुमान जी का आशीर्वाद लेने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

नितिन पुजारी – सालासर बालाजी धाम के 9वीं पीढ़ी के पुजारी हैं

अंत में, संत मोहनदास महाराज के समाधि दिवस पर नितिन पुजारी की अंतर्दृष्टि से सालासर बालाजी धाम के इतिहास और महत्व की झलक मिलती है। मंदिर और देवता के प्रति उनके समर्पण ने उन्हें समुदाय में एक प्रमुख व्यक्ति बना दिया है, और सोशल मीडिया के माध्यम से भक्तों की मदद करने के उनके प्रयासों ने उन्हें दुनिया भर में पहचान दिलाई है। मंदिर के 9वीं पीढ़ी के पुजारी के रूप में नितिन पुजारी आने वाली पीढ़ियों के लिए सालासर बालाजी धाम की परंपराओं और मूल्यों को संरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

By khabarhardin

Journalist & Chief News Editor